Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

गौर से देख लो दुनिया वालो ! ये है हमारा इण्डिया...जहाँ गोलियां नहीं, बोलियाँ राज करती हैं




पिछले  कुछ महीनों में  दुनिया के अनेक देशों से वहां की ज़ालिम 

सत्ता के प्रति जनता के भारी आक्रोष  के स्वर  सुनाई व दिखाई


दिए  थे . सारे संघर्ष  रक्त रंजित थे, ख़ूनी थे  अर्थात  हिंसक थे .


छोटे-छोटे  देशों के आन्दोलनों  में भी बड़े स्तर पर लोग मारे गये


या  अपंग हुए थे. परन्तु धन्य है  भारत की धरती और भारत की


समझदार जनता ...लोकतन्त्र में  विश्वास करने वाली,  अहिंसा में


आस्था रखने वाली हमारी अन्नामय जनता, जिसके समर्थन के


बल पर 74 वर्ष के  बुजुर्ग,  एक आम आदमी  ने वो कर दिखाया


जिस पर यक़ीन  करने में  उन देशों को  बड़ा वक्त लगेगा .



12 दिन तक भूखा रह कर, देश और देश  के लोगों की ख़ुशहाली


के लिए  अपने प्राणों की बाज़ी लगा देने वाले  असली जांबाज़


अन्ना हज़ारे  ने  साबित कर दिया  कि  भारत वही देश है  जहाँ


कभी  लंगोटी धारी  बूढ़े महात्मा गांधी ने  अहिंसा के दम पर


समूची  अँगरेज़  हुकूमत  को हिला दिया था . 

 

देख लो दुनिया वालो देखलो ! आंखें खोल कर देख लो.....

त्याग है  बलिदान है ये इण्डिया


शौर्य की पहचान  है ये इण्डिया



कर लो माथे पर तिलक इस माटी का


बहुत गरिमावान है ये इण्डिया



भक्ति और शक्ति का संगम है जहाँ


ऐसा तीर्थ स्थान है ये इण्डिया


जय हिन्द !




देश के लिए मरना बड़ी बात नहीं है अन्ना जी ! देश के लिए जीना बड़ी बात है ...इसलिए अब आप अनशन त्याग दीजिये.......प्लीज़






आदरणीय अन्ना जी !

जिस महान मकसद के लिए आपने  कदम  उठाया,  वह लगभग हासिल


हो चुका है . भले ही अभी  काम पूरा नहीं हुआ  लेकिन जितना हुआ है  वह


ऐतिहासिक  है  और अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है . वह कोई कम नहीं है . 


 
सारी पार्टियाँ, सारे दल  एक ही मुद्दे पर  संसद में चर्चा  करते  हुए जिस

प्रकार भ्रष्टाचार के विरुद्ध  आपकी जंग  को समर्थन  दे रहे थे  उसे देख


कर  मेरी पीढ़ी के  लोगों को गर्व हो रहा था कि  भले ही हमने गांधी को


अंग्रेजों  से लड़ते हुए नहीं देखा,  परन्तु  हम अन्ना को  भ्रष्टाचार  के


खिलाफ लड़ते हुए न केवल देख रहे हैं  अपितु  यथाशक्ति अपना  साथ 


भी  दे रहे हैं



अब आप  अनशन  तोड़ दीजिये प्रभु !  अब और जिद्द  मत कीजिये .


आपका  हठ अब तक हमें प्रेरित कर रहा था  परन्तु अब हमें  चिंतित


और परेशान करने  लगा है .



12 दिन  से आपने कुछ खाया नहीं है  सिवाय लोकसमर्थन  के, जिससे


बाकी  सारे काम भले ही हो जाएँ पर पेट नहीं भरता  और ज़िन्दा रहने


के लिए पेट भरना ज़रूरी है



देश के लिए मरना कोई बड़ी बात नहीं है ...देश के लिए जीना बड़ी  बात


है . क्योंकि  मरते  तो लोग रोज़ हैं  यहाँ ..कौन पूछ  रहा है  उनके बारे


में ?  वो हेमंत करकरे,  वो संदीप उन्नीकृष्णन  और हज़ारों हज़ार 


फौजी  जो सरहद पर  मर मिट गये देश के लिए.. देश ने कहाँ याद


रखा किसी को, लेकिन जो लोग देश के लिए जिए  ऐसे  अन्ना हज़ारे


को, किरण बेदी को,  बाबा रामदेव को, नरेन्द्र मोदी को, सोनिया गांधी


को, कपिल देव को, सचिन तेंदुलकर को,  बिड़ला को,  टाटा को  और


अमिताभ बच्चन को  पूरा देश जानता, पहचानता और मानता है .


आप रहेंगे तो  सब होगा, सबके सपने पूरे होंगे. अगर आप ही अनशन


पर डटे रहे, तो............हम सब चिन्तित हैं अन्ना !



देश के लिए मरना नहीं, बल्कि देश की  तमाम बुराइयों को  मारना है,


देश के दुश्मनों को मारना है, मारते-मारते मरना  और मरते मरते भी


मारना है, ख़त्म करना है उन तिलचट्टों को जो देश को चट कर रहे हैं 



ये पोस्ट बहुत  लम्बी होती जा रही है  और इत्ती  लम्बी  पोस्ट कोई


पढता नहीं है  इसलिए मेरी  कर बद्ध प्रार्थना है ..कृपया कुछ अन्न


ग्रहण कर लीजिये .


जय हिन्द !



 

हरामखोरो ! चुल्लू भर पानी में डूब मरो.. पानी न हो तो मेरे आँसू ले जाओ लेकिन भगवान् के लिए अब तुम मर खप जाओ


मेरे मासूम देश के ज़ालिम हुक्मरानों ! 


इन्सान  की  खाल  ओढ़े हुए   हैवानों !



तुम्हें ज़रा भी लज्जा  नहीं आती अपने आप से....हराम का  सीमेन्ट,


सरिया,लोहा, लंगड़  खा खा कर क्या तुम इतने कठोर हो गये हो कि 


तुम्हे  भारत माँ का आर्तनाद  भी अब सुनाई नहीं देता  ?  करोड़ों


लोगों  का हुजूम  दिखाई नहीं देता ?



74 -75 साल का एक बुजुर्ग  आदमी पिछले 11 दिन से केवल


पानी  पी कर ज़िन्दा है  और तुम  तमाशा देख रहे हो ?



शर्म आनी चाहिए तुम्हें  मेरे मुल्क के नेताओं !  जो काम तुम्हारा


था, जिस काम के लिए तुमको भेजा गया था  वह  आज  अन्ना


के नेतृत्व  में अगर अवाम कर रहा तो  तुम उसका  समर्थन 


करने के बजाय  उसका विरोध कर रहे हो ?



थू है  तुम पर...........और तुम्हारी  हिजड़ा पार्टियों पर



देश से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए यदि देश के नागरिकों को 


अनशन पर बैठना पड़े तो  राम ही राखे इस देश को ...


जय हिन्द !





भगवान करे यह सच न हो...झूठ हो....डॉ. अमर कुमार जी जीवित ही हों











प्यारे मित्रो,  


अभी अभी फेस बुक  पर यह दुखद समाचार अरविन्द मिश्र  जी की 

पोस्ट से मिला कि  वरिष्ठ  ब्लोगर डॉ. अमर कुमार नहीं रहे...........

सहसा मुझे यकीं नहीं हुआ...

कृपया कोई  पता लगा कर  सही कन्फर्म करे......कहीं ऐसा तो नहीं  

अरविन्द मिश्र जी के नाम से किसी और ने  मजाक किया हो..........

भगवान करे मजाक ही किया हो किसी ने......

यह सच न हो...झूठ हो....डॉ. अमर कुमार  जी जीवित ही हों   





तब गोरों की नहीं रही थी और अब चोरों की नहीं रहेगी



हर सीने से आग  उठी है 

देश की जनता जाग उठी है 


अब 


भरोसा है  अवाम को 


हुकूमत  अब  दिल्ली में  ज़ुल्म  और ज़ोरों  की  नहीं रहेगी 


बद्ज़ुबान, बदतमीज़, बदमिजाज़  छिछोरों की  नहीं रहेगी  


अरे.........


तब  बापू ने बीड़ा उठाया था 


आज अन्ना ने  प्रण किया है 


तब  गोरों की  नहीं रही थी  और अब चोरों की नहीं रहेगी 


जय हिन्द !


BHRASTACHAAR  BHAGAAO, DESH BACHAAO

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive