Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

हिंगलाज माता के भजन मंत्र और आरती the bhajans of hinglaj mata

अलबेला खत्री  रचित हिंगलाज माता के भजन मंत्र और आरती का 

आनंद लीजिये और इस प्रोमो को देखिये ....

जीवन में कुछ उजाला आएगा 




albela khatri live on stage in surat at event of jai jawan


हिन्दू हृदयसम्राट श्री बाला साहेब ठाकरे हमारी कविता कम सुनते थे हम उनसे हमारी हास्य कवितायें ज्यादा सुनते थे



हिन्दू हृदयसम्राट श्री बालासाहेब ठाकरे के देहावसान से मुझे
वैयक्तिक दुःख 

पहुंचा है . उनकी सुप्रसिद्ध कार्टून  पत्रिका मार्मिक के वर्धापन समारोह हों या 

उनके  नाती-नातिन के जन्म-दिवस समारोह, अनेक बार उनके साथ रंगारंग 

महफ़िलें जमती थीं  जिनमे वे तो हमारी कविता कम सुनते थे  हम उनसे 

हमारी हास्य कवितायें ज्यादा सुनते थे . अनेक कवियों की  कवितायें उन्हें 

 याद थीं और हू बहू  उसी शैली में सुना कर तो वे  विस्मित कर देते थे . हिंदी 

और हिंदी कवियों को भरपूर  सम्मान और स्नेह देने वाले  महान कलाकार,  

रसिक श्रोता, मुखर वक्ता,प्रखर नेता  और  सजग समाजसेवी के साथ साथ 

साथ सतत समर्पित राष्ट्रभक्त लोकनेता श्रद्धेय बाला साहेब की  पावन स्मृति  

को  शत शत  आत्मिक श्रद्धांजलि  अर्पित करता हूँ और उन्हीं की  मनपसंद  

अपनी एक कविता आज यहाँ  प्रस्तुत करता हूँ

विनम्र 

-अलबेला खत्री


इसलिए गर्व से कहते हैं - हम हिन्दू हैं


क्योंकि हमारी देह में कट्टरता का कलुषित रक्त नहीं है

सीधे सादे प्रेमपुजारी हैं हम बगुले भक्त नहीं है


कनक - कामिनी की खातिर हमने न क़त्लेआम किया

नहीं लुटेरा बन कर हमने कभी कहीं कोहराम किया


हाथ उठा न कभी हमारा बेबस पर मज़लूमों पर

हमने कभी नहीं अंगारे बरसाए मासूमों पर


कभी नहीं कुचला है हमने कुसुमों को - कलिकाओं को

शक्तिओ कहा है, भोग की वस्तु नहीं कहा महिलाओं को


बूंद बूंद में, कण कण में प्रभु की सत्ता को जाना है

नहीं पराया गिना किसी को, सबको अपना माना है


हम नफ़रत  के नाले नहीं हैं, स्नेहक्षीर के सिन्धु हैं

इसलिए गर्व से कहते हैं - हम हिन्दू हैं, हम हिन्दू हैं 


-अलबेला खत्री 


आत्मीय आभार के पात्र हैं बंधुवर श्री रमेश सचदेवा



इंटरनेट के  बहुरंगी आभासीय जगत के मेरे तमाम प्यारे मित्रों, प्रशंसकों और 

शुभचिंतकों को यह जान कर ख़ुशी होगी  कि जय माँ हिंगुलाज एल्बम के प्रचार-

प्रसार की  मेरी अपील  व्यर्थ नहीं गयी . बल्कि  सफलता के सोपान पर पहला 

पग रख चुकी है .  मेरे शत शत आत्मीय आभार  के पात्र हैं बंधुवर श्री रमेश सचदेवा, 

जिन्होंने  कल ही मुझे मेल कर के  अपना आर्थिक सहयोग देने की मन्शा  से अवगत 

करा दिया था .

DEAR ALBELA JI,

I CAN AFFORD 50 DVDS. 
IF YOU CAN GIVE ME THE IFS CODE AND BANK CODE
OR ANY OTHER BANK ACCOUNT NUMBER LIKE
HDFC
SBI
PNB
VIJAYA
STATE BANK OF BIKANER & JAIPUR

सचमुच मेरा भरोसा अब मजबूत हो गया है  कि  जिस जीवट  और परिश्रम के साथ 
 
मैंने पूरी भव्यता  के साथ जय माँ हिंगुलाज  एल्बम बनाया  है  उसी प्रकार  मित्रों और
 
 कद्रदानों का सहयोग प्राप्त करने में भी मैं सफल रहूँगा . सवाल यह नहीं है कि  कौन 
 
 कितना सहयोग करेगा ? क्योंकि  सबका आर्थिक सामर्थ्य  जुदा होता है . परन्तु मेरे 
 
लिए तो  10  डीवीडी  खरीदने वाला भी  महत्त्वपूर्ण  सहयोगी है और 5000 लेने वाला भी  
 
क्योंकि मैंने  यह काम पैसा कमाने के लिए व्यवसाय के रूप में नहीं बल्कि  एक सार्थक 
 
और उत्तम सृजन समाज को देने के लिए किया है .  मुझे तो बस  अपनी लागत  राशी  
 
वापिस प्राप्त करनी है ताकि  अगला प्रोजेक्ट  शुरू कर सकूँ

धन्यवाद भाई रमेश सचदेवा जी .........मैं आपको SBI  का IFSC  भेज रहा हूँ ......उम्मीद 
 
 है आपकी  शुरूआत अन्य  महानुभावों को भी प्रेरित करेगी .

सादर

-अलबेला खत्री 
 

अपना काम तो मैंने कर दिया . अब समाज के लोगों और आप जैसे शुभचिंतकों के सहयोग से ही यह शब्द-यज्ञ पूरा होगा



अलबेला खत्री की आप सभी मित्रों से विनम्र विनती और अपील 

स्नेही स्वजनों, मित्रो और हितचिन्तको !


कई बार अतिउत्साह में आकर व्यक्ति कुछ  अद्भुत, अद्वितीय और अत्युत्तम करने की  ललक

में इतना उदार हो जाता है कि बाद में उधार मांगता फिरता है . कोई नरसी मेहता की तरह

  इतना दान कर बैठता है कि स्वयं दरिद्र हो जाता है, कोई चोर के पीछे  इतनी  तेज़ी से दौड़ता है

  कि चोर तो पीछे छूट जाता है  और खुद आगे निकल जाता है . बाद में लोग उसी को चोर सनझ कर

पीटते हैं . हँसने  की बात नहीं भाई, मेरा भी यही हाल है . मैं भी अक्सर ऐसी मूर्खताएं करता रहा हूँ

 जिसके लिए बाद में परेशान होना  पड़ा है .





लम्बी फेहरिस्त है . फिर कभी किश्तों में बताऊंगा . फिलहाल मुख्य मुद्दे पर आता हूँ . इस बार एक

ऐसा अनूठा कार्य करने की मैंने हिम्मत जुटाई  जो आज तक नहीं हुआ था . 52 शक्तिपीठों  में

 सर्वप्रथम स्थान प्राप्त  आदिशक्ति  देवी हिंगुलाज  ( मुख्य शक्तिपीठ  बलोचिस्तान में ) के  लिए  एक

भी  ऑडियो या वीडियो आज तक हिंदी में नहीं बना था . इसलिए  न तो बाज़ार में कहीं उपलब्ध था

 न ही किसी म्युज़िक कम्पनी के पास ....... संयोग की बात है  कि क्षत्रिय, ब्रह्मक्षत्रिय,खत्री, चारण,

गढ़वी, भावसार, भानुशाली, कापड़ी, ठाकुर, दर्जी,सोनी इत्यादि  36 जातियों  की  कुलदेवी  और 11

करोड़  लोगों की  आराध्य देवी  होने के बावजूद  इस आदिभावानी  जगत्जननी माँ हिंगुलाज  के

भजन और परिपूर्ण  आरती, अष्टक,मंत्र  आदि  का सर्वप्रथम  अधिकृत वीडियो  बनाने  का सौभाग्य

मुझे मिला  जो मैंने माँ का हुकुम  सनझ कर किया और देवकृपा से  काम भी ऐसा अनूठा हो गया

है कि  जो ख़ुशी  शाहजहाँ  को ताजमहल  बना कर हुई  थी, उससे दस गुना ज़्यादा  प्रसन्नता  मुझे है

. परन्तु लफड़ा  ये हो गया कि  भव्य से भव्यतम  बनाने  के चक्कर में माल इतना खर्च कर दिया  कि

खुद की माली हालत खराब हो गयी है.  कहना मत  किसी से, आज मेरी वही हालत है जो मेरा नाम

जोकर  बनाने के बाद  राज कपूर की  हुई थी . इसलिए अब  कहता है  कि  अपना काम तो मैंने कर

 दिया . अब समाज के लोगों और आप  जैसे शुभचिंतकों के सहयोग से ही यह शब्द-यज्ञ पूरा होगा .



मित्रो  इत्ते बड़े खर्च  की भरपाई तो मुश्किल है  क्योंकि  मैं इस डीवीडी को बाज़ार में बेचने वाला नहीं,

बल्कि  लागत मूल्य पर देने वाला हूँ  ताकि  लोग बड़ी संख्या में  प्राप्त करके  अपने

दोस्तों,रिश्तेदारों,ग्राहकों  इत्यादि को मुफ्त भेंट कर सकें . लिहाज़ा  मैं आप सबसे आग्रह करता हूँ

 कि  जिस प्रकार लोग कलेंडर बांटते हैं, चाबी छल्ले बांटते  हैं, हनुमान चालीसा  बांटते हैं उसी प्रकार

आप भी इस साल  नववर्ष के  अवसर पर  यथासंभव  जय माँ हिंगुलाज  डीवीडी बांटिये . आप लोगों

का थोडा थोडा सहयोग भी मिला तो  मेरा काम चल जायेगा और एक श्रेष्ठ भजन एल्बम घर-घर तक

पहुँच जायेगा .
 


मित्रो ! एक सकारात्मक  कार्य को समर्थन मिले तो दो और  अच्छे  कामों की  भूमिका बनती है .

लेकिन एक फ्लॉप हो गया तो दस काम रुक जाते हैं . आप इस वीडियो  में विज्ञापन भी दे सकते हैं

 और लागत मूल्य पर प्राप्त करके  बाँट  भी सकते हैं।



हाई क्वालिटी डीवीडी की  सहयोग राशि  केवल 25 रुपये प्रति रखी गयी है . 100 से अधिक  डीवीडी

मंगाने पर  कोरियर  खर्च भी आपको नहीं देना होगा . तथा कम से कम 1000 डीवीडी लेने वाले मित्रों

का एक बड़ा विज्ञापन  डीवीडी के कवर पृष्ठ पर  दिया जाएगा . आप उसमे अपनी फर्म  का, संस्था का

अथवा  माता पिता का चित्र सहित शुभकामना सन्देश दे सकते  हैं  



लिखते हुए  बहुत संकोच हो रहा था . लेकिन फिर मैने साहस करके लिख ही  दिया क्योंकि  मुझे

भरोसा है  कि मैंने डीवीडी  बनाया बहुत  शानदार है और  इसे घर घर पहुँचने  का मौका मिलना

चाहिए .



अपने आदेश आप अग्रिम राशि  के साथ सीधे बैंक खाते में या मेरे आवासीय पते पर भेज सकते हैं 


बैंक खाता की विस्तृत जानकारी : 


 
TIKAM CHAND  ALBELA KHATRI


A /C  NO . 2 7 4 3 1 0 1 1 0 0 0 0 2 6 2 


BANK OF INDIA,  GHOD DOD ROAD  BRANCH, SURAT



आवासीय पता :

 
डी 504, रामेश्वरम कैम्पस, टी पी 10, एल पी सवानी स्कूल रोड, 


पाल-अड़ाजन, सूरत - 395009 ( गुजरात ) 


मो
बाइल : 9227156902, 9228756902, 9408329393


________आपके सहयोग की प्रतीक्षा रहेगी

-अलबेला खत्री 


















जय माँ हिंगुलाज वीडियो एल्बम का प्रोमो रिलीज़










ज्योतिपर्व के उल्लास और आह्लाद्पूर्ण महोत्सव पर हमारी आत्मिक मंगल कामनाएं स्वीकार करें





ज्योतिपर्व  के उल्लास और आह्लाद्पूर्ण
महोत्सव पर
हमारी
आत्मिक मंगल कामनाएं स्वीकार करें
यश, धन, आरोग्य, आयुष्य, आनंद एवं  संतुष्टि के थाल
सदा भरे रहें
आप जिस पथ पर चलें वहां के समस्त दृश्य
हरे हरे रहें


माँ महालक्ष्मी, सरस्वती एवं गजानन 

सदैव प्रसन्न और अनुकंपित रहे आप पर
आपके परिवार पर

और आपके इष्ट-मित्रों पर

____बधाई बधाई बधाई
____दीपावली अभिनन्दन

शुभेच्छु : अलबेला खत्री, आरती खत्री एवं आलोक खत्री
                सूरत



deepavli abhinandan by albela khatri

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive