Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

दर्द तो अंग अंग में हो रहा है, पर मज़ा भी आ रहा है ..





कई
दिनों तक घर से बाहर था कवि-सम्मेलनीय यात्रा के चलते

देश के अधिकांश हिस्सों में उपस्थिति लगा कर कल जैसे ही लौटा

और कंप्यूटर पर बैठा आप से बात करने के लिए और कुछ लिखने के

लिए तो निकट के शहर वापी से फोन गया कवि-सम्मेलन में

कविता पढने का



मैंने मना कर दिया क्योंकि बहुत थका हुआ था नींद भी नहीं हुई थी

और शरीर में ऊर्जा भी नहीं थी, लेकिन बुलाने वाले ने कहा कि एक

बड़े कवि ने एन टाइम पर आने से मना कर दिया है इसलिए प्रोग्राम

को बचाने के लिए तुम्हें आना ही पड़ेगा मैंने मान धन के बारे में

पूछा तो वो भी बहुत कम था लेकिन उसने दुहाई दी कि प्लीज़ मेरे

आयोजन को बचा लीजिये ...............



लिहाज़ा एक छोटी सी कविता ब्लॉग पर लिख कर मैं रवाना हो

गया .... ठीक समय पर पहुँच गया और काम भी बहुत बढ़िया कर

दिया अब ये पता नहीं कि इतनी ऊर्जा उस वक्त आई कहाँ से ?

करीब एक घंटे तक प्रस्तुति की जबकि एक मिनट बोलने का भी

माद्दा मुझमे नहीं था प्रोग्राम के बाद वे सारे कुकर्म भी करने ही थे

जो आम तौर पर तथाकथित बड़े कवि किया करते हैं .........सो

करते करते सुबह के पाँच बज गये



तीन घंटे नींद लेकर आठ बजे उठा, वहां से घर अभी पहुंचा हूँ और

फिर कंप्यूटर खोल कर बैठा हूँ तो फोन गया है एक पुरस्कार

वितरण समारोह में विशेष अतिथि के रूप में पहुँचने का .........यहाँ

फ़िलवक्त मेरी हालत बहुत खराब है थकान के मारे अंग अंग टूट

रहा है लेकिन कहना मत किसी से...........मज़ा भी बहुत रहा है

क्योंकि किचन से एक नारी स्वर रहा है "मेरा पिया घर आया

राम जी...."






















www.albelakhatri.com

7 comments:

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून March 7, 2010 at 4:33 PM  

चलो जी पुरूस्कार भी बांट आइए :)

Gautam RK March 7, 2010 at 5:07 PM  

Sir, Apka Face Dekhkar hi lagta hai ki aap thakne walon me se nahi lagatar chalte rahne walon me se hain... Kafi Energetic hai aap!!


"RAM"

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" March 7, 2010 at 5:09 PM  

माया तो वैसे ही सारे दर्दे गम भुला देती है :-)

Udan Tashtari March 7, 2010 at 6:49 PM  

थोड़ा आराम भी कर लें..

योगेन्द्र मौदगिल March 7, 2010 at 8:50 PM  

jab pee kar ghar aaoge to kitchen se yahi swar aaega ki MERA PEEYA GHAR AAYA HE RAAM JI....

राजीव तनेजा March 8, 2010 at 12:47 AM  

मेरा नाम जोकर में श्री..श्री राज कपूर जी भी कह गए हैं ना कि..."शो मस्ट गो आन"...
तो फिर चलने दीजिए ना कार्यक्रमों को....काहे को आराम फरमाने की सोचते हैं?

Urmi March 8, 2010 at 4:51 PM  

आजकल आप काम में बहुत व्यस्त रहने लगे हैं इसलिए शायद मेरे ब्लॉग पर आने का वक़्त नहीं मिलता होगा! अभी आप कहाँ प्रोग्राम कर रहे हैं? अपने सेहत का ख्याल रखियेगा और थोड़ा आराम भी कर लिया कीजियेगा !

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive