Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

रहने दे रंग लाल ! क्या पड़ा है इन बातों में ...





रंग
लाल का बेटा नंग लाल पिछले तीन सालों से लगातार फेल हो रहा था

उसे जोश दिलाने के लिए रंग लाल ने सुबह सुबह चेतावनी दी - कान खोल

कर सुनले नंग लाल ! अगर इस बार भी तू फेल हो गया तो मुझे अपना

पापा मत कहना



शाम को जब नंग लाल परीक्षा परिणाम ले कर लौटा तो बाप ने कड़कती

आवाज़ में पूछा - कैसा रहा रिजल्ट ?



नंग लाल बोला -

रहने दे रंग लाल ! क्या पड़ा है इन बातों में ...






11 comments:

योगेन्द्र मौदगिल February 10, 2011 at 7:06 AM  

wahwa.....apni kahani apni jubani......jai ho

Shah Nawaz February 10, 2011 at 7:44 AM  

हा हा हा.... वाह जी वाह.... ज़बरदस्त!!!!

Tarkeshwar Giri February 10, 2011 at 7:47 AM  

Good

ana February 10, 2011 at 8:05 AM  

ha...ha......ha....mazedar

Rahul Singh February 10, 2011 at 8:54 AM  

बाप अद्धा, बेटा सवाया.

किलर झपाटा February 10, 2011 at 10:22 AM  

हा हा हा। बहुत दुष्ट हो आप अलबेला भैया। एकदम से हँसा दिया। मैं पानी पी रहा था, उसी समय पढ़ा। ठस्का लग गया ना, हाँ नहीं तो।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" February 10, 2011 at 11:44 AM  

हा-हा-हा ... औलाद समझदार थी रंगलाल की !

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ February 10, 2011 at 2:47 PM  

सही कहा।

इन बातों में क्‍या रखा है?
---------
पुत्र प्राप्ति के उपय।
क्‍या आप मॉं बनने वाली हैं ?

mahendra-mishra-live February 10, 2011 at 4:32 PM  

ha ha ha bahut khoob

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " February 10, 2011 at 4:45 PM  

वाह अलबेला जी ,
यह भी खूब रही !

Poorviya March 2, 2011 at 6:40 PM  

ये सोच कर बहुत डर रहा हूँ
jai baba banaras---

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर