Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

तन में मन में चित्त में, है रंगों का ज्वार * HAPPY HOLI - ALBELA KHATRI



तन में मन में चित्त में, है रंगों का ज्वार
आया आया आ गया, होली का त्यौहार


__सभी को हार्दिक गुलाल और आत्मिक पिचकारी से अभिनंदन ! 



गुटखा ले लेगा उसकी जान, कर दो सभी को सावधान !

      गुटखा ये पाउच वाला, जिसने भी मुंह में डाला 

गुटखा ले लेगा उसकी जान, कर दो सभी को सावधान !

albela khatri's anti gutkha drive

गुरू प्राणी नहीं है, प्राणाधार है



गुरू की महिमा अपरम्पार है,
गुरू प्राणी नहीं है, प्राणाधार है

jai hind

jai hind

ठहाकों और तालियों की गूंज चार घंटे तक समूचे अंचल में गूंजती रही



प्यारे साथियो, भावभीना नमस्कार .

बीती रात कलोल में इफ्को परिसर में एक शानदार हास्य कवि-सम्मेलन 


संपन्न हुआ . कवियों की संख्या  भले ही कुल चार थी, परन्तु ठहाकों और 

तालियों की गूंज चार घंटे तक समूचे अंचल में गूंजती रही . इफ्को के 

नवरात्रि महोत्सव के समापन अवसर पर, शहीदी दिवस के उपलक्ष्य में 

होली के रंगों को समर्पित  इस रंगारंग काव्य-समारोह का रसीला सञ्चालन 

हास्यकवि अलबेला खत्री ने किया और एक एक करके अपने तीन साथी 

कवियों को प्रस्तुत किया . इफ्को की  कलोल यूनिट के मुखिया श्री शमशेर सिंह 

समेत अनेक वरिष्ठ महाप्रबंधक चार घंटे तक  मंत्र मुग्ध हो कर काव्य का आनंद  

लेते रहे .

जय हिन्द ! 

 

हास्यकवि अलबेला खत्री का वीडियो एल्बम हमारा गुजरात



दी ग्रेट इंडियन लाफ्टर फेम हास्यकवि अलबेला खत्री की लोकप्रिय एवं बहुचर्चित कविता हमारा गुजरात पर आधारित गरवी गुजरात का एक शानदार वीडियो एल्बम अलबेला खत्री कृत हमारा गुजरात अब रिलीज़ के लिए तैयार है

जय हिन्द !  



हिन्द की खातिर मिटने वालो हम को तुम पर नाज़ है




हिन्दी हास्य कवि-सम्मेलन का विज्ञापन अंग्रेजी में क्यों ?

क्योंकि  यह सब को समझ में आता है 
और दुनिया भर में चल जाता है 



हास्यकवि अलबेला खत्री लाया है आपके लिए अद्भुत और अनूठा हास्य कवि सम्मेलन




गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी से हास्यकवि अलबेला खत्री की साहित्यिक मुलाकात


प्यारे मित्रो नमस्कार

गाँधी नगर में मेरा कल का दिन बहुत ऊर्जा  और प्रफुल्लता भरा 


रहा .  अहमदाबाद  के बंधुवर  राजकुमार भक्कड़ के सौजन्य से  

अनेकानेक  दिग्गज  हस्तियों से  मुलाकात का सिलसिला  दिन भर 

चला . विशेषकर ऊर्जा, शौर्य  और पराक्रम के प्रतीक पुरूष, गुजरात 

के मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी से एक लम्बी भेंट हुई तथा उन पर 

रचित एक लम्बी कविता उन्हीं के कार्यालय में सुनाने व भेंट करने का 

अवसर मिला .


मोदीजी ने बड़े आनंद से पूरी रचना का श्रवण करने के बाद जो टिप्पणी 


की वो उनकी आत्मिक विनम्रता की सुगंध थी ...उनकी  शुभ कामनाओं  

की महक  मुझे बहुत दिनों  तक  आह्लादित रखेगी

जय हिन्द ! 








My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive