Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

ज्योति-पर्व की ख़ूब बधाई, सबको मुबारक़ हो मंहगाई




ज्योति-पर्व की  ख़ूब बधाई
सबको  मुबारक़ हो मंहगाई


आई फिर दीपावली, ले कर नव उल्लास


उजियारे का हो रहा, भीतर तक आभास


भीतर तक आभास, लगी सजने दूकानें


धीरे धीरे ग्राहकगण,  भी  लगे हैं  आने


बरतन-वरतन, कपड़ा-सपड़ा, जूता-वूता


हर वस्तु का भाव भले आकाश को छूता 


खर्चो खर्चो, खर्च दो, जितना जिसके पास


आई फिर दीपावली, ले कर नव उल्लास


-अलबेला खत्री 


4 comments:

संगीता पुरी October 22, 2011 at 3:15 AM  

खर्चो खर्चो, खर्च दो, जितना जिसके पास

आई फिर दीपावली, ले कर नव उल्लास

आपको वनववर्ष की बहुत शुभकामनाएं !!

डा. अरुणा कपूर. October 22, 2011 at 5:30 PM  

महंगाई की बड़ी बड़ी आँखों से...
अब डरना छोड दिया है हमने...
दीपावली हो या होली...
पर्स का मुंह खुला ही छोड दिया है हमने...
महंगाई तो बहू है हमारी...
हमारे ही घरमें रहेगी हंमेशा...
जो करना है,कर ले वह...
तो दीपावली आ रही है...
जम कर खर्चा करना शुरू कर दिया है हमने...

जाट देवता (संदीप पवाँर) October 25, 2011 at 11:34 AM  

शुभ दीपावली,

Ratan Singh Shekhawat October 26, 2011 at 12:07 AM  

दीपावली के पावन पर्व पर हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ |

way4host
rajputs-parinay

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर