Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

अपना काम तो मैंने कर दिया . अब समाज के लोगों और आप जैसे शुभचिंतकों के सहयोग से ही यह शब्द-यज्ञ पूरा होगा



अलबेला खत्री की आप सभी मित्रों से विनम्र विनती और अपील 

स्नेही स्वजनों, मित्रो और हितचिन्तको !


कई बार अतिउत्साह में आकर व्यक्ति कुछ  अद्भुत, अद्वितीय और अत्युत्तम करने की  ललक

में इतना उदार हो जाता है कि बाद में उधार मांगता फिरता है . कोई नरसी मेहता की तरह

  इतना दान कर बैठता है कि स्वयं दरिद्र हो जाता है, कोई चोर के पीछे  इतनी  तेज़ी से दौड़ता है

  कि चोर तो पीछे छूट जाता है  और खुद आगे निकल जाता है . बाद में लोग उसी को चोर सनझ कर

पीटते हैं . हँसने  की बात नहीं भाई, मेरा भी यही हाल है . मैं भी अक्सर ऐसी मूर्खताएं करता रहा हूँ

 जिसके लिए बाद में परेशान होना  पड़ा है .





लम्बी फेहरिस्त है . फिर कभी किश्तों में बताऊंगा . फिलहाल मुख्य मुद्दे पर आता हूँ . इस बार एक

ऐसा अनूठा कार्य करने की मैंने हिम्मत जुटाई  जो आज तक नहीं हुआ था . 52 शक्तिपीठों  में

 सर्वप्रथम स्थान प्राप्त  आदिशक्ति  देवी हिंगुलाज  ( मुख्य शक्तिपीठ  बलोचिस्तान में ) के  लिए  एक

भी  ऑडियो या वीडियो आज तक हिंदी में नहीं बना था . इसलिए  न तो बाज़ार में कहीं उपलब्ध था

 न ही किसी म्युज़िक कम्पनी के पास ....... संयोग की बात है  कि क्षत्रिय, ब्रह्मक्षत्रिय,खत्री, चारण,

गढ़वी, भावसार, भानुशाली, कापड़ी, ठाकुर, दर्जी,सोनी इत्यादि  36 जातियों  की  कुलदेवी  और 11

करोड़  लोगों की  आराध्य देवी  होने के बावजूद  इस आदिभावानी  जगत्जननी माँ हिंगुलाज  के

भजन और परिपूर्ण  आरती, अष्टक,मंत्र  आदि  का सर्वप्रथम  अधिकृत वीडियो  बनाने  का सौभाग्य

मुझे मिला  जो मैंने माँ का हुकुम  सनझ कर किया और देवकृपा से  काम भी ऐसा अनूठा हो गया

है कि  जो ख़ुशी  शाहजहाँ  को ताजमहल  बना कर हुई  थी, उससे दस गुना ज़्यादा  प्रसन्नता  मुझे है

. परन्तु लफड़ा  ये हो गया कि  भव्य से भव्यतम  बनाने  के चक्कर में माल इतना खर्च कर दिया  कि

खुद की माली हालत खराब हो गयी है.  कहना मत  किसी से, आज मेरी वही हालत है जो मेरा नाम

जोकर  बनाने के बाद  राज कपूर की  हुई थी . इसलिए अब  कहता है  कि  अपना काम तो मैंने कर

 दिया . अब समाज के लोगों और आप  जैसे शुभचिंतकों के सहयोग से ही यह शब्द-यज्ञ पूरा होगा .



मित्रो  इत्ते बड़े खर्च  की भरपाई तो मुश्किल है  क्योंकि  मैं इस डीवीडी को बाज़ार में बेचने वाला नहीं,

बल्कि  लागत मूल्य पर देने वाला हूँ  ताकि  लोग बड़ी संख्या में  प्राप्त करके  अपने

दोस्तों,रिश्तेदारों,ग्राहकों  इत्यादि को मुफ्त भेंट कर सकें . लिहाज़ा  मैं आप सबसे आग्रह करता हूँ

 कि  जिस प्रकार लोग कलेंडर बांटते हैं, चाबी छल्ले बांटते  हैं, हनुमान चालीसा  बांटते हैं उसी प्रकार

आप भी इस साल  नववर्ष के  अवसर पर  यथासंभव  जय माँ हिंगुलाज  डीवीडी बांटिये . आप लोगों

का थोडा थोडा सहयोग भी मिला तो  मेरा काम चल जायेगा और एक श्रेष्ठ भजन एल्बम घर-घर तक

पहुँच जायेगा .
 


मित्रो ! एक सकारात्मक  कार्य को समर्थन मिले तो दो और  अच्छे  कामों की  भूमिका बनती है .

लेकिन एक फ्लॉप हो गया तो दस काम रुक जाते हैं . आप इस वीडियो  में विज्ञापन भी दे सकते हैं

 और लागत मूल्य पर प्राप्त करके  बाँट  भी सकते हैं।



हाई क्वालिटी डीवीडी की  सहयोग राशि  केवल 25 रुपये प्रति रखी गयी है . 100 से अधिक  डीवीडी

मंगाने पर  कोरियर  खर्च भी आपको नहीं देना होगा . तथा कम से कम 1000 डीवीडी लेने वाले मित्रों

का एक बड़ा विज्ञापन  डीवीडी के कवर पृष्ठ पर  दिया जाएगा . आप उसमे अपनी फर्म  का, संस्था का

अथवा  माता पिता का चित्र सहित शुभकामना सन्देश दे सकते  हैं  



लिखते हुए  बहुत संकोच हो रहा था . लेकिन फिर मैने साहस करके लिख ही  दिया क्योंकि  मुझे

भरोसा है  कि मैंने डीवीडी  बनाया बहुत  शानदार है और  इसे घर घर पहुँचने  का मौका मिलना

चाहिए .



अपने आदेश आप अग्रिम राशि  के साथ सीधे बैंक खाते में या मेरे आवासीय पते पर भेज सकते हैं 


बैंक खाता की विस्तृत जानकारी : 


 
TIKAM CHAND  ALBELA KHATRI


A /C  NO . 2 7 4 3 1 0 1 1 0 0 0 0 2 6 2 


BANK OF INDIA,  GHOD DOD ROAD  BRANCH, SURAT



आवासीय पता :

 
डी 504, रामेश्वरम कैम्पस, टी पी 10, एल पी सवानी स्कूल रोड, 


पाल-अड़ाजन, सूरत - 395009 ( गुजरात ) 


मो
बाइल : 9227156902, 9228756902, 9408329393


________आपके सहयोग की प्रतीक्षा रहेगी

-अलबेला खत्री 


















2 comments:

Anonymous November 15, 2012 at 8:30 AM  

Gгeat infοrmаtіon. Lucky me I сame acrοss youг blog by accident (ѕtumbleupon).
I've bookmarked it for later!
Feel free to visit my site :: Januar 2012

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) November 15, 2012 at 5:07 PM  

सुन्दर प्रस्तुति!
भइयादूज की हार्दिक शुभकामनाएँ!

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive