Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

रुस्तमे-हिन्द दारासिंह के देहावसान पर उनके प्रशंसक अलबेला खत्री की विनम्र शब्दांजलि





नील गगन के पार गया है बाबाजी 


छोड़ के यह संसार गया है बाबाजी 



हरा सका न कोई जिसे अखाड़े में 


मौत से वह भी हार गया है बाबाजी 



देवों को कुछ दाव सिखाने कुश्ती के


कुश्ती का सरदार गया है बाबाजी 



अपनी माता के संग भारत माता का 


सारा  क़र्ज़ उतार गया है बाबाजी 



हाय! रुस्तमे-हिन्द को कैसा रोग लगा 


हर इलाज बेकार गया है बाबाजी 



रिंग का किंग, रिंग तोड़ चला इक झटके में


सुपर किंग के द्वार गया है बाबाजी 



दारासिंह के देह अन्त पर 'अलबेला'


दुःख में यह गुरूवार गया है बाबाजी 



-अलबेला खत्री 


1 comments:

Amar Tak July 12, 2012 at 10:28 PM  

ALBELA JI NE APNE JAJBATO KO PIROYA HAI IS KAVYA
ROOPY SHRDHANJLI MAI.

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive