Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

हरामखोरो ! चुल्लू भर पानी में डूब मरो.. पानी न हो तो मेरे आँसू ले जाओ लेकिन भगवान् के लिए अब तुम मर खप जाओ


मेरे मासूम देश के ज़ालिम हुक्मरानों ! 


इन्सान  की  खाल  ओढ़े हुए   हैवानों !



तुम्हें ज़रा भी लज्जा  नहीं आती अपने आप से....हराम का  सीमेन्ट,


सरिया,लोहा, लंगड़  खा खा कर क्या तुम इतने कठोर हो गये हो कि 


तुम्हे  भारत माँ का आर्तनाद  भी अब सुनाई नहीं देता  ?  करोड़ों


लोगों  का हुजूम  दिखाई नहीं देता ?



74 -75 साल का एक बुजुर्ग  आदमी पिछले 11 दिन से केवल


पानी  पी कर ज़िन्दा है  और तुम  तमाशा देख रहे हो ?



शर्म आनी चाहिए तुम्हें  मेरे मुल्क के नेताओं !  जो काम तुम्हारा


था, जिस काम के लिए तुमको भेजा गया था  वह  आज  अन्ना


के नेतृत्व  में अगर अवाम कर रहा तो  तुम उसका  समर्थन 


करने के बजाय  उसका विरोध कर रहे हो ?



थू है  तुम पर...........और तुम्हारी  हिजड़ा पार्टियों पर



देश से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए यदि देश के नागरिकों को 


अनशन पर बैठना पड़े तो  राम ही राखे इस देश को ...


जय हिन्द !





20 comments:

hameeda August 26, 2011 at 8:41 PM  

sach kaha, jis desh me bhrashtaachar mitaane ke liye janta ko anshan karna pade aur sarkaar virodh kare us desh ka malik ram hi hai

vande matram

(कुंदन) August 26, 2011 at 8:41 PM  

खत्री जी इन पर मत थूकिये... इन नेताओं पर थूक कर आप अपने थूक का ही आपमान करेंगे ये उस काबिल भी नहीं है

अगर इनको कोई चिंता होती देश की तो जो कोशिशे आज हो रही हैं वो ९-१० दिन पहले ही शुरू हो गई होती लेकिन इन नेताओं की तो शायद यही चाहत है है की ये बुजुर्ग यही अनशन करते हुए मर जाये और फिर कभी कोई अनशन का नाम ना ले

jagdesh rawal August 26, 2011 at 8:43 PM  

albela ji aap kitni bhi ungli karo - in gaindon ko gudgudi nahin hogi...inke to baans karna hoga tabhi inhen khabar padegi ki janta jaag uthi hai

jai ho janta janardan ki

jai hind !

नारी शक्ति - शाश्वत शक्ति August 26, 2011 at 8:47 PM  

वाह वाह .......अति सुन्दर..अत्यंत सारगर्भित आलेख लिखा है आपने .

ऐसे हालात में राम ही राखे इस देश को.........

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) August 26, 2011 at 9:01 PM  

बहुत मोटी चमड़ी के हैं ये।
हृदयहीन लोगों का इलाज सिर्फ जनता ही करेगी।

बी एस पाबला BS Pabla August 26, 2011 at 10:20 PM  

बहुत खूब

संगीता पुरी August 26, 2011 at 10:30 PM  

क्‍या कहा जाए ??

DR. ANWER JAMAL August 26, 2011 at 11:29 PM  

थू है ....

हिजड़ा पार्टियों पर ...

BJP ke alaawa par ...


जय हिन्द !

Vishaal Charchchit August 27, 2011 at 12:35 AM  

बिलकुल खत्री साहब, अब वक़्त आ गया है कि आप बाबा की गदा उठा लीजिये, और लगा दीजिये आग उन हरामखोरों की लंका में जैसे कभी बाबा ने लगाईं थी....हम हमेशा आपके साथ खड़े हैं और रहेंगे पानी लेकर.....

Tarkeshwar Giri August 27, 2011 at 8:52 AM  

Harami hain sab ke sab sale

जी.के. अवधिया August 27, 2011 at 9:12 AM  

अब पता चल रहा है कि इन्हें देश की बागडोर सम्भालने के लिए भेज कर कितनी बड़ी गलती की है हम लोगों ने।

uthojago August 27, 2011 at 9:54 AM  

देश से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए यदि देश के नागरिकों को

अनशन पर बैठना पड़े तो राम ही राखे इस देश को ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) August 27, 2011 at 12:57 PM  

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) August 27, 2011 at 1:08 PM  

आपकी इस उत्कृष्ट प्रवि्ष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') August 27, 2011 at 1:20 PM  

सब के अंतर का आक्रोश आपकी पंक्तियों में समाहित है...
सादर बधाई...
जयहिंद

ana August 27, 2011 at 3:26 PM  

hamari dil ki baato ko apne awaz di......bilkul sach

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार August 27, 2011 at 3:43 PM  

प्रियवर अलबेला जी
सादर वंदे मातरम् !

मेरे मासूम देश के ज़ालिम हुक्मरानों !
इन्सान की खाल ओढ़े हुए हैवानों !

तुम्हें ज़रा भी लज्जा नहीं आती


आपने अपने अंदाज़ में फटकारा है …

## इधर सरकार अन्ना के अनशन के 12वें दिन भी बेशर्मी दिखलाते हुए बहस पर अपने वोटिंग के वादे से मुकर गई है … एक और धिक्कार है इस सरकार को !!


मेरी पोस्ट पर आपका भी इंतज़ार है ,

काग़जी था शेर कल , अब भेड़िया ख़ूंख़्वार है
मेरी ग़लती का नतीज़ा ; ये मेरी सरकार है

वोट से मेरे ही पुश्तें इसकी पलती हैं मगर
मुझपे ही गुर्राए … हद दर्ज़े का ये गद्दार है

मेरी ख़िदमत के लिए मैंने बनाया ख़ुद इसे
घर का जबरन् बन गया मालिक ; ये चौकीदार है

पूरी रचना के लिए मेरे ब्लॉग पर पधारें … आपकी प्रतीक्षा रहेगी :)

विलंब से ही सही…
♥ स्वतंत्रतादिवस सहित श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !♥
- राजेन्द्र स्वर्णकार

vidhya August 27, 2011 at 7:49 PM  

बहुत खूब

SACCHAI August 28, 2011 at 2:53 AM  

" dil jeet liya ...saaf alfaz me makhhan lagakar kaske maare hai ....waah ! "

jai ho

prerna argal August 29, 2011 at 9:36 AM  

आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (६) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ /आप हिंदी के सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना हैं /आज सोमबार को आपब्लोगर्स मीट वीकली
के मंच पर आप सादर आमंत्रित हैं /आभार /

Post a Comment

My Blog List

Google+ Followers

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive