Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

मेहदी की शीतल सुर-सरिता सूख गई, ख़बर बहुत ही दुखदायी है बाबाजी

करोड़ों  दिलों पर राज करने वाले शहंशाह-ए-ग़ज़ल एवं लोक लाड़ले 

स्वर सम्राट जनाब  मेहदी हसन  के देहावसान से  हमें बहुत दुःख


पहुंचा है .  उनकी आत्मिक शान्ति के लिए  परम पिता से प्रार्थना


करते हुए  एक ग़ज़ल के रूप में  दिवंगत  आत्मा को


विनम्र श्रद्धांजलि :






आँख ग़ज़ल की पथराई है  बाबाजी

नज़्म सोग  में  सरसाई  है बाबाजी



मेहदी की शीतल सुर-सरिता सूख गई


ख़बर  बहुत  ही  दुखदायी है  बाबाजी



चमक दमक, महफ़िल की रौनक रूठ गई


रह   गई   बस  इक   सूनाई  है   बाबाजी



उड़ गये सूखे  फूल कज़ा की आँधी  में


धूल  किताबों   पर  छाई   है   बाबाजी



हाय पहले जगजीत, गये अब मेहदी भी


किसने  चिट्ठी   भिजवाई  है   बाबाजी



अल्लाह ताला उनको जन्नत अता  करे


दुआ   यही  लब   पर  आई  है  बाबाजी



कैसे कहूँ 'अलविदा'  उसे मैं 'अलबेला'


वाणी      मेरी    भर्राई    है   बाबाजी

hasyakavi albela khatri in Houston tx USA






2 comments:

Ramakant Singh June 14, 2012 at 11:01 PM  

behatarin SHRADDHANJALI

ब्लॉ.ललित शर्मा June 15, 2012 at 6:47 PM  

मेंहदी हसन जी को विनम्र श्रद्धांजलि, ईश्वर उन्हे अपनी शरण में ले।


मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से रामगढ में

जहाँ रचा कालिदास ने महाकाव्य मेघदूत।

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive