Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

भारत की नारी हूँ मैं, मेरे पास आइये



बांहें दी पसार मैंने,
कर दी पुकार मैंने,

आओ आओ आओ मेरे  गले लग जाइए

दामिनी सी चंचल मैं,
फूल जैसी कोमल मैं,

मेरी ओजस्वी आँखों से आँख तो मिलाइए

आज किलकारी हूँ मैं,

कल फुलवारी हूँ मैं, 
भारत की नारी हूँ मैं, मेरे पास आइये

वंश को बढ़ाना हो तो,

देश को बचाना हो तो,
भ्रूणहत्या रोक कर, बेटी को बचाइये


___जय हिन्द !


6 comments:

Amar Tak June 20, 2012 at 6:56 PM  

bhawpooran utkrist rachna.

दिलबाग विर्क June 20, 2012 at 8:46 PM  

आपकी पोस्ट कल 21/6/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें

चर्चा - 917 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

S.M Masum June 21, 2012 at 5:46 AM  

भ्रूणहत्या कौन रोकेगा | जो मान बच्चे को अपने पेट में रखने के बाद उसे गिरवा दे उसे कौन बचाएगा? माँ के दिल में भी अब अपनी औलाद का प्यार नहीं रहा | यह कहाँ पहुँच गए हम इंसान?

Shah Nawaz June 21, 2012 at 9:36 AM  

इंसान ही इंसान का दुश्मन है.... जब औरते ही नहीं बचेंगी तो यह वोह कोख कहाँ से लाएंगे जहाँ से पुत्र पैदा हो?

मन के - मनके June 21, 2012 at 10:33 AM  

बेटियों का वज़ूद हो तो समस्त मानव जाति का वज़ूद है.

ZEAL June 21, 2012 at 4:57 PM  

Awesome creation.

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive