Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

झूठ का हैन्डिल सब जगह फिट हो जाता है ......

पाप के बहुत से हथकंडे हैं,

लेकिन

झूठ वह हैन्डिल है

जो उन सब में फिट हो जाता है



संसार के महान व्यक्ति

अक्सर

बड़े विद्वान् नहीं होते

और

न ही बड़े विद्वान

महान व्यक्ति हुए हैं


-होम्ज़


















12 comments:

prashant April 28, 2010 at 4:26 AM  

bilkul sahi kaha.............

M VERMA April 28, 2010 at 6:36 AM  

साधुवचन

Udan Tashtari April 28, 2010 at 6:57 AM  

आभार इस प्रस्तुति का..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक April 28, 2010 at 9:04 AM  

अच्छा सन्देश है मगर वेचारे सत्य का क्या होगा?
वो शाश्वत है इसीलिए हर जगह फिट नही होता है!

नीरज जाट जी April 28, 2010 at 9:20 AM  

बढिया।

Ram Krishna Gautam April 28, 2010 at 11:47 AM  

"झूठ का हैन्डिल सब जगह फिट हो जाता है"


Vaaah Saaab Kya Baat kah di... Bahut Badhia...



"RAM"

शिवम् मिश्रा April 28, 2010 at 12:42 PM  

बहुत बढ़िया सन्देश !

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" April 29, 2010 at 10:17 AM  

तथाकथित महानता दिखावे का फल है ! दिखावे के लिए झूट तो बोलना ही पढ़ेगा ..
सच्ची महानता वो है जो प्यार और सच्चाई से प्राप्त होती है ..

sangeeta swarup April 29, 2010 at 12:04 PM  

बिलकुल सही कहा....अमर बाणी अच्छी लगी

nidhi May 3, 2010 at 9:30 AM  

झूठ का हैन्डिल सब जगह फिट हो जाता है....kya baat hai Khatri ji,ek baar fir prabhavit kiya aapke lekhan ne.

आदेश कुमार पंकज May 4, 2010 at 9:36 PM  

बहुत सुंदर

Pawan Kumar May 5, 2010 at 10:54 AM  

bahut khub, ye is desh ki vidambna hai, jahan desh k veroon ko bahuduri ki mout to milti hai magar uchit sammaan nahi milta

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive