Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

नौहा समझो तो नौहा, दोहा समझो तो दोहा




पहले से ही त्रस्त हैं, सीधे सादे लोग


मत फैलाओ भाइयो, अफवाहों का रोग



जन जन आशंकित हुआ, नख से लेकर केश


अफवाहों की आँच में, झुलस न जाये देश



देश हमारा  ताज है,  देशधर्म सरताज


जब तक इसकी लाज है, तब तक अपनी लाज



किसके सिर में चल रही, हिंसा की खुजलाट


मुझको गर दिख जाये वो, मारूँ  उसे चमाट 



कर्नाटक हो या असम, चाहे महाराष्ट्र

एक हमारी भावना, एक हमारा राष्ट्र 



बीज न बोयें द्वेष का, रखिये मन में नेह


आपस में नेहस्त हों , केरल हो या लेह



सरकारों को कोसना, दुस्साहस कहलाय


लेकिन अपने देश में, मूरख आग लगाय



'अलबेला' विनती करे, जोड़े दोनों हाथ


मिलजुल जीना सीख लो, इक दूजे के साथ



-जय हिन्द !


-अलबेला खत्री 

dohe,hinsa,asam,karnatak,albela khatri,hindi poem




3 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) August 17, 2012 at 5:26 PM  

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (18-08-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Ramakant Singh August 17, 2012 at 7:05 PM  

KHUBSURAT BAATEN KHUBSURAT DIMAG KI UPAJ

Virendra Kumar Sharma August 18, 2012 at 8:40 AM  

बहुत बढ़िया रचना भाई साहब लेकिन यह इटली का स्वांग कब तक चलेगा ?
कृपया यहाँ भी पधारें -
ram ram bhai
शुक्रवार, 17 अगस्त 2012
गर्भावस्था में काइरोप्रेक्टिक चेक अप क्यों

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive