Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

दुनिया ने उसे अपने घर की आज़ादी दे दी





शक्ति ने दुनिया से कहा, 'तू मेरी है';

दुनिया ने उसे अपने तख़्त पर क़ैदी बना कर रखा

प्रेम ने दुनिया से कहा, 'मैं तेरा हूँ' ;

दुनिया ने उसे अपने घर की आज़ादी दे दी


-गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर




शुभ प्रभात

-अलबेला खत्री

hasya kavita,hindi kavi sammelan, rachna,gazal,shaayri,hasya-vyangya,comedy,mimicry,artist from surat,kavi from gujarat,sensex,how can free sex,kavi sammelan video,albelakhatri.com,hasyahungama.com

1 comments:

पंख November 19, 2010 at 12:52 AM  

sabse pehle to sabhi vijaytao ko meri taraf se hardik badhai... sach me umda rachna hai

albela ji,
main kehna chahungi ki aisa kuch nhi hai kisi ne vishesh utsah nhi dikhaya shayad jyada logo tak ye pratiyogita ki jankari pahuch nhi payi...
maine bhi geet likhne ka prayas kiya tha par aaj jara bhi waqt nhi mil paya comp pe baithne ka...
khair geet post kar rahi... ab likh diya hai isliye.. aur koi apeksha nhi hai aapse

पहली कोशिश में चलने की
कभी गिरने कभी संभलने की
तेरी ऊँगली हाथो में थी
तभी तो गिर के उठ पाई
तेरी ही उस लगन ने माँ
प्रगति के पथ पर मुझे चलाया
जीवन नही दिया बस तुने
माँ तुने जीना भी सिखाया

कभी कहानी पंचतन्त्र की
कभी थी जीवनी महापुरुष की
इन्ही कहानी से तुने
आदर्श सिखाये जीवन के
कभी नही बाचा बस उनको
सही गलत का फर्क बताय
जीवन नही दिया बस तुने
माँ तुने जीना भी सिखाया

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive