Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

छंटे छंटाये लोग आज लोगों को छाँट रहे हैं ......

क्या मुस्लिम,क्या सिक्ख, इसाई, क्या वैष्णव,क्या जैन

सब के सब हैरान यहाँ पर, सब के सब बेचैन

खादी वाले जनता का धन लूट रहे दिन-रैन

हाय ! लुटेरों के शासन में, भीगे सब के नैन


क्या होगा कल हाल देश का, सोच सोच घबराया

इसीलिए हे पवनपुत्र ! मैं तेरी शरण में आया

प्यारे अन्जनी के लाल !

हमें संकट से निकाल !



धर्म के ठेकेदार हमें टुकड़ों में बाँट रहे हैं

छंटे छंटाये लोग आज लोगों को छाँट रहे हैं

करुणा की काया को दीमक बन के चाट रहे हैं

मानवता के कल्पवृक्ष को जड़ से काट रहे हैं


खुदगर्ज़ी में इन्सां ने इन्सां का ख़ून बहाया

इसीलिए हे पवनपुत्र ! मैं तेरी शरण में आया

प्यारे अन्जनी के लाल !

हमें संकट से निकाल !



लालच में असली डॉक्टर भी नकली दवा चलाते

हलवाई नकली मावा से नकली बरफी बनाते

व्यापारी भी नकली मिर्च-मसाले हमें खिलाते

दूध-दही, फल-फ्रूट तो क्या हम सब्ज़ी नकली खाते


गद्दारों ने बैंकों तक में नकली नोट चलाया

इसीलिए हे पवनपुत्र ! मैं तेरी शरण में आया

प्यारे अन्जनी के लाल !

हमें संकट से निकाल !


kavi,kavita,poetry,bhajan,swabhiman,hasya hungama,albela khatri,india got tailent,big boss, lado,sensex,xxx neta,kavi sammelan,rachnakar,rachnakaar,rachnakaar sahitya manch surat

3 comments:

Kajal Kumar July 3, 2011 at 4:58 PM  

आशा करनी चाहिये कि समय बदलेगा

Ratan Singh Shekhawat July 3, 2011 at 6:14 PM  

लगता है आप हनुमान जी को उकसा कर राजनीती में ले ही आवोगे|

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " July 4, 2011 at 7:32 AM  

सच्ची पीड़ा.....
संकटमोचन ही संकट दूर करेंगे अब ....

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive