Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

सिर्फ़ सुरक्षा मांगता, अपना हिन्दुस्तान





बजरंगी की देह पर, चढ़ा दिया  सिन्दूर

अब मन में विश्वास है, होंगे सब दुःख दूर


मंगल मेरी भावना , मंगल तेरा रूप

भारत का मंगल करो, तब है बात अनूप


श्रद्धा और विश्वास से,  आया तेरे धाम

हे हनुमत अब आप भी, कर दो मेरा काम


काम मेरा मुश्किल नहीं, सरल है हे हनुमान

सिर्फ़ सुरक्षा  मांगता, अपना हिन्दुस्तान


-अलबेला खत्री














4 comments:

Babli July 18, 2011 at 10:41 AM  

मंगल मेरी भावना , मंगल तेरा रूप
भारत का मंगल करो, तब है बात अनूप
श्रद्धा और विश्वास से, आया तेरे धाम
हे हनुमत अब आप भी, कर दो मेरा काम..
आपकी प्रार्थना ज़रूर सुनेंगे भगवान ! भक्ति भाव से भरपूर सुन्दर पोस्ट!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

Manish Kr. Khedawat July 18, 2011 at 10:50 AM  

bahut khoob albela zi :)

vidhya July 18, 2011 at 2:08 PM  

bahut khoob

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) July 18, 2011 at 6:27 PM  

आतंकी हमले हुए, सफल हुए षड़यन्त्र।
फिर से निष्फल हो गया, अपना खुफिया तन्त्र।।

दहशतगर्दों के लिए, स्वर्ग हुआ यह देश।
अमल-धवल सी घरा का, बिगड़ गया परिवेश।।

शासक अब भी बोलते, रटे-रटाए मन्त्र।
वाचालों की चाल में, उलझ गया जनतन्त्र।।

महामहिम के द्वार से, मिला न कोइ ज़वाब।
कारागृह में खा रहे, जमकर माल कसाब।।

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive