Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

डॉ टी एस दराल जितने अच्छे चिकित्सक हैं उतने ही भले आदमी भी हैं



अपने लोकप्रिय चिट्ठाकार और प्रख्यात चिकित्सक

डॉ टी एस दराल जितने अच्छे चिकित्सक हैं उतने ही भले आदमी

भी हैंये सबके प्रति नेक भाव रखते हैं और सबके लिए एक ही भाव

रखते हैंकिसी से कभी कोई भेदभाव नहीं करते



इनके पास कोई भी मरीज़ जाये, सबका एक जैसा इलाज करते हैं

सिर्फ़ दो गोलियां ही देते हैं इस हिदायत के साथ कि एक तो रात को

सोते समय खा लेना और दूसरी सुबह उठ जाओ तो खा लेना

......हा हा हा हा हा हा




enjoy laughter ke phatke

new year special

performing by

albela khatri & abhijeet sawant

on STAR ONE 31 DEC.10 P.M.






8 comments:

Khushdeep Sehgal December 27, 2009 at 4:42 PM  

अलबेला जी,
आज पता चला...दराल सर की गोलियां को इस तरह नायाब तरीके से खाना है आपके यूं चहचहाने का राज़...चश्मेबद्दूर..

अपुन तो दराल सर के कमाल के न जाने कब से मुरीद हैं...

जय हिंद...

Unknown December 27, 2009 at 4:44 PM  

हमें भी हमारा डॉक्टर दो ही गोलियाँ देता है इस हिदायत के साथ कि एक गोली सोने के बाद और दूसरी गोली उठने के पहले खाना है!

Khushdeep Sehgal December 27, 2009 at 4:45 PM  

वैसे अलबेला जी,
ये नारायण दत्त तिवारी जी के बारे में आपका ख्याल है...सुना है एक खास तरह की गोलियां बनाने वाली कंपनियों में तिवारी जी को मॉडल लेने के लिए होड़ लगी हुई है...

जय हिंद...

परमजीत सिहँ बाली December 27, 2009 at 5:08 PM  

vaah!!;))

ब्लॉ.ललित शर्मा December 27, 2009 at 5:44 PM  

अलबेला भाई यहीं चुक गये। डा.दराल साब पी.एच.डी. वाले है, गोळी वाळे नही:) हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा लाफ़्टर के झटके

Unknown December 27, 2009 at 6:06 PM  

are bhai lalitji !
ye aap jaante ho aur main jaanta hoon ki daraal saaheb ph.d. wale dr. hain lekin aap jaise dusre log jab unhne vo wala dr. samajh kar inke paas jaate hain toh ye ek hi digri se do-do faayde uthaa lete hain ...ha ha ha ha

samjha karo yaar !

aap toh daraati le ke toot padte ho ghaas kaatne ke liye............

girish pankaj December 27, 2009 at 11:55 PM  

kamaal ke hai dr. daral. mareejo ka rakhate poora khayaal. ganeemat hai aisa nahi bolate ki ek goli sone ke baad kha lena aur doosaree goli subah uthane se pahale le lena. ha...ha....ha....

Udan Tashtari December 28, 2009 at 1:13 AM  

बहुत भले आदमी हैं.. :) सच में..

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive