Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

नेताओं में चरित्र नहीं हो सकता




जैसे चाइना

किसी का मित्र नहीं हो सकता

और धतूरे में

कभी इत्र नहीं हो सकता

जूता चाहे साधू का हो

कभी पवित्र नहीं हो सकता

वैसे ही हमारे नेताओं में

कभी चरित्र नहीं हो सकता




enjoy laughter ke phatke

new year special

performing by

albela khatri & abhijeet sawant

on STAR ONE 31 DEC.10 P.M.




11 comments:

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून December 28, 2009 at 6:32 PM  

बेचारे जूते और नेते...!

Unknown December 28, 2009 at 6:37 PM  

कविता के माध्यम से बिल्कुल सही बात कह दी आपने!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' December 28, 2009 at 7:14 PM  

आजकल के नेताओं में भले ही न हो लेकिन पहले के नेताओं में तो था!

Rajeysha December 28, 2009 at 8:16 PM  

आदरणीय ये भी सही है....
आप कहें और कोई ना सुने
ऐसा भी कोई
वि‍चि‍त्र नहीं हो सकता

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" December 28, 2009 at 9:19 PM  

लेकिन यही जूता जब एक बार इन नेताओ के सिर पर पड जाए तो फिर इस जूते से पवित्र कुछ हो भी नहीं सकता :)

राजीव तनेजा December 28, 2009 at 10:24 PM  

सत्य वचन

विनोद कुमार पांडेय December 28, 2009 at 10:53 PM  

नेता और चरित्र दोनों एक दूसरे के विपरीत है..सत्य वचन..अलबेला जी..बधाई

Udan Tashtari December 29, 2009 at 6:14 AM  

जूता खामखां बदनाम हुआ नेता के चक्कर में.. :)


यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

नववर्ष में संकल्प लें कि आप नए लोगों को जोड़ेंगे एवं पुरानों को प्रोत्साहित करेंगे - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

निवेदन है कि नए लोगों को जोड़ें एवं पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

वर्ष २०१० मे हर माह एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

आपका साधुवाद!!

नववर्ष की अनेक शुभकामनाएँ!

समीर लाल
उड़न तश्तरी

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) December 29, 2009 at 10:48 AM  

बेचारा जूता..... बहुत बेईज्ज़ती हो गई ....उसकी.....

उम्दा सोच December 29, 2009 at 12:52 PM  

जूता नेता खाता
नेता जूता खाता
खाता नेता जूता

सबका मतलब एक !!!

अजय कुमार झा December 29, 2009 at 5:16 PM  

सुना है कुछ जूते भी आरक्षण की मांग करने वाले हैं कि उनके लिए भी सीटे आरक्षित की जाएं ....

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive