Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

यही कारण है कि मनुष्य जाति के इतने सारे लोग दुखी हैं .

ज्ञानवान को सन्तुष्ट करने के लिए किसी चीज़ की ज़रूरत  नहीं होती, 

लेकिन मूर्ख  को किसी चीज़ से भी सन्तोष नहीं मिलता  

और यही कारण है कि मनुष्य जाति के इतने सारे लोग दुखी हैं .

हम  दूसरों के आर-पार देखना चाहते हैं, 


परन्तु  स्वयं अपने आर-पार देखा  जाना पसन्द नहीं करते . 


 -रोशे



www.albelakhatri.com   

7 comments:

Mrs. Asha Joglekar July 13, 2010 at 2:17 AM  

Wah Wah Guruji Baten kya batanee

Mrs. Asha Joglekar July 13, 2010 at 2:18 AM  

बहुत सही, हम अपने अंदर तक झांकते नही आर पार क्या देखेंगे ।

Udan Tashtari July 13, 2010 at 4:17 AM  

सही कहा!

दीपक 'मशाल' July 13, 2010 at 5:39 AM  

good good

शिवम् मिश्रा July 13, 2010 at 10:03 AM  

सत्य वचन महाराज !

soni garg July 13, 2010 at 2:38 PM  

sahi hai..........

dev July 23, 2010 at 8:49 AM  

गुरु जी, हम तो दूसरो के आर-पार ही देख सकते है हमारे आर-पार देखने के लिए दूसरें है ना....

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive