Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

सम्भोग करना है तो पूजा की तरह आराम से करो दोस्त ! नाश्ते की तरह फटाफट नहीं.........

कल रात मैंने अपने एक अभिन्न मित्र को फोन किया तो वो बड़े मूड

में था और ख़ुश भी । बोला - यार....दस मिनट बाद बात करता हूँ ।

अभी तेरी भाभी के साथ ज़रूरी काम कर रहा हूँ । मैंने कहा - भाई

कोई जल्दी नहीं है आराम से सारे काम निपटा, अपन कल बात

करते हैं ।



ये कह के मैंने फोन रख दिया और चिट्ठाजगत में लोगों के ब्लॉग

पढ़ने लगा । अभी तीन कवितायें भी न पढ़ी थीं कि उसका फोन

आ गया । मैंने कहा - बड़ी जल्दी निपटा दिया ........वो बोला -

यार टाइम किसके पास है ? अपन तो हर काम फटाफट निपटाते

हैं । उसे तो मैंने कुछ नहीं कहा, लेकिन मुझे ये बात पसन्द नहीं

आई उसकी.........क्योंकि मेरा मानना है कि या तो कोई काम

करो मत , अगर करते हो तो तरीके से करो ।



सम्भोग एक ऐसी क्रिया है जो सलीके से और बड़े खुशनुमा मूड

में फुर्सत के साथ हो, तभी करना चाहिए........वरना पूरा मज़ा

किरकिरा हो जाता है । जल्दबाजी में केवल अपना काम निकाल

लेना सम्भोग नहीं है दोस्त ! ये तो बलात्कार और दैहिक

शोषण जैसा कुछ है . आपका साथी भले आपसे शिकायत न

करे, लेकिन वो मन ही मन आपको उल्लू का पट्ठा समझना

शुरू कर देता है ।



याद रखें.........सम्भोग करने से पहले स्वयं को स्नान अदि से

स्वच्छ करके , खुशबू इत्यादि से महका लें, बढ़िया सा संगीत

लगा दें और सारे फोन, मोबाइल इत्यादि बन्द कर दें । धीरे- धीरे

शुरूआत करें और जब भूमिका बन जाये तभी काव्यपाठ करें,

अन्यथा श्रोता की वाह वाह नहीं मिलेगी.............बीच में कोई भी

और बात न करें, किसी को याद न करें..........एक ही विषय चलना

चाहिए - उस समय का आनन्द !



जिस प्रकार पूजा -पाठ में कोई विघ्न नहीं पड़ना चाहिए उसी प्रकार

सहवास में भी कोई विघ्न नहीं पड़ना चाहिए और सबसे ज़रूरी बात

ये है कि तूफ़ान गुजरने के बाद भी उसी खुशनुमा मूड में रह

कर अपने साथी के साथ लिपट कर सोना चाहिए, सहलाना चाहिए

और मीठी-मीठी बातें करते रहना चाहिए क्योंकि सम्भोग केवल १०

मिनट के दैहिक प्रवेश और घर्षण क्रिया का नाम नहीं है बल्कि

सम्भोग एक महान कला है और उस कला में पारंगत होना

विवाहित लोगों के लिए ज़रूरी है ।

15 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar July 21, 2010 at 8:59 PM  

बड़ी हिम्मत चाहिये यह कहने के लिए कि आपकी ये पोस्ट पढ़ी, फिर उससे भी ज़्यादा हिम्मत चाहिये इस पोस्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक July 21, 2010 at 9:18 PM  

बहुत अनुभवी हैं आप!

Ratan Singh Shekhawat July 21, 2010 at 10:59 PM  

काजल जी की टिप्पणी से सहमत

ललित शर्मा July 21, 2010 at 11:32 PM  

जय हो महाराज
कोकशास्त्र के पारंगत ज्ञाता
बढिया ज्ञान दि्या है भ्राता

nilesh mathur July 22, 2010 at 1:23 AM  

भैया प्रणाम,
बुरा मत मानियेगा, लगता है आजकल आपके दिमाग का दिवाला निकाल गया है, क्यों अपनी छवि का भी दिवाला निकलने में लगे हुए हैं आप?

नीरज जाट जी July 22, 2010 at 5:08 PM  

हम तो अभी अंजान अज्ञानी हैं।

dev July 23, 2010 at 8:40 AM  

गुरु जी, यह डिपेंड करता है कि आप सम्भोग किस के साथ कर रहें है,अगर सम्भोग अपनी पत्नी के साथ कर रहे है तो समय की कोई सीमा नही लेकिन अगर सम्भोग पडोसन के साथ कर रहे हो तो भाई 10 मिनट क्या फिर तो 1 मिनट भी काफी है.....पता नही कोई आ ही जाए !
सादर

गिरीश बिल्लोरे September 19, 2010 at 1:40 PM  

जै हो
गज़ब ढा दिये गुरु

viruslover December 25, 2010 at 9:53 AM  

आप जैसे ही कुछ लोग ऐसा सोचते है मगर हमारे साथी लोग तो फटाफट सेक्स में ही विस्वाश रखते है की अपना काम बनता भाड़ में जाये जनता क्योकि लोगो के पास सब कुछ है मगर समय नहीं है मगर कुछ चीजे होती है जिनको जितना ज्यादा टाइम दो उतना ही उतना ही उत्साह और आनंद आता है मगर अपने अपने प्रतिष्ठित ब्लॉग पर इस बात को प्रस्तुत कर सराहनीय तथा प्रसंशनीय कार्य किया है

Anonymous May 23, 2011 at 7:05 PM  

sahi hai guru.....

Anonymous October 18, 2011 at 11:55 AM  

Bhai sahab ye kaam kutto(dogs) ka hai, manushyo ka nahi ! BABLOO ‼ HA HA HA.....

Anonymous November 24, 2011 at 1:45 AM  

Khuch or bhi likho guru ......

Ap Ne bhi thoda hi bataya , Zara Khool ke bataye kase kare sambhog

Anonymous February 10, 2012 at 2:35 AM  

भोसडी का मादरचोद

DR. ANWER JAMAL April 8, 2012 at 5:05 PM  

विषय ओल्ड हो या बोल्ड हो,
‘ब्लॉग की ख़बरें‘
सबको कवरेज देता है.
आप देख सकते हैं यह लिंक
http://blogkikhabren.blogspot.in/2012/04/vandana-gupta.html

haridwar rai October 25, 2015 at 10:41 PM  

right

Post a Comment

My Blog List

Google+ Followers

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive