Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

तेरा नाम लिखा है .......

छुप छुप के नहीं मैंने सरे-आम लिखा है
कालेज की दीवारों पे तेरा नाम लिखा है

मेरी ये ज़िन्दगी है एक वीणा की तरह
जिसके सभी तारों पे तेरा नाम लिखा है

ख़त भी लिखा तो ऐसा कि कुछ भी नहीं लिखा
सलाम ही सलाम ही सलाम लिखा है

न जाने कितनी रातों का लोहू भरा गया
तब जा के इस कलम ने इक कलाम लिखा है

पत्थर की बात छोड़िये कलयुग में 'अलबेला'
नेता भी तर गया है जिस पे राम लिखा है

3 comments:

रंजू भाटिया May 29, 2009 at 10:43 AM  

अच्छी लगी आपकी यह रचना शुक्रिया

vijay kumar sappatti May 29, 2009 at 11:22 AM  

aapki is rachna me prem ke ras bhaavpoorn dhang se ubhaare gaye hai ..

ख़त भी लिखा तो ऐसा कि कुछ भी नहीं लिखा
सलाम ही सलाम ही सलाम लिखा है

kya khoob bhai mere ..waah waaah ..

padhkar dil jhoom gaya sir ji

mera salaaam kabul karenn
aapka
vijay

Udan Tashtari May 29, 2009 at 5:32 PM  

मेरी ये ज़िन्दगी है एक वीणा की तरह
जिसके सभी तारों पे तेरा नाम लिखा है

-क्या बात है!!

Post a Comment

My Blog List

myfreecopyright.com registered & protected
CG Blog
www.hamarivani.com
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive