Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

रामदेव बाबा, राखी सावंत और रजत शर्मा (अन्तिम भाग)


तीनों आपस में जुड़े हुए हैं


रामदेव बाबा इण्डिया टी वी से जुड़े हैं, इण्डिया टी वी राखी सावंत का

प्रमोशन सेन्टर है और रजत शर्मा तो हैं ही साक्षात् इण्डिया टी वीइस

प्रकार तीनों आपस में गुत्थमगुत्था की भान्ति जुड़े हुए हैंऔर तीनों

लगातार इस चैनल पर दिखते रहते हैं



तीनों अति महत्वाकांक्षी है


महत्वाकांक्षा के घोड़े इन तीनों के ही सर पर इतने ज़्यादा सवार हैं कि

सब कुछ प्राप्त कर लेने के बावजूद इनको तृप्ति नहीं हुईविस्तार में

जाने कि ज़रूरत नहीं , सब जानते हैं



तीनों देह उघाड़ने में रुचिवान हैं


तीनों ही महानुभाव बड़े पहुंचे हु देह उघाडू हैं ,वस्त्रों को ये सबसे

बड़ी बाधा मानते हैं अभिव्यक्ति में.......इसीलिए रामदेव और राखी

कम से कम वस्त्र धारणा करते हैं जबकि रजत शर्मा ख़ुद तो पूरे कपड़े

पहनते हैं लेकिन लोगों के उतारने में तत्पर रहते हैंकभी पुलिस की

वर्दी तो कभी नेताओं की धोती खोलते ही दिखते हैं ये ब्रेकिंग न्यूज़ में





तीनों पराई खीर में चम्मच चलाते रहते हैं



तीनों सुर्खियों में बने रहना जानते हैं



तीनों आत्ममुग्ध हैं



तीनों ने खूब माल कमा लिया है



तीनों कहते कुछ और करते कुछ हैं


तीनों अपने करियर के चरमोत्कर्ष पर हैं




तीनों HOT हैं और तीनों ITOM हैं


रामदेव बाबा आइटम योगी हैं, राखी सावंत आइटम गर्ल है और

रजत शर्मा आइटम पत्रकार हैंतीनों ज़बरदस्त HOT भी हैं

आज बाज़ार में इनका नाम बिकता है



तीनों ने जनता की कमज़ोरी भांप ली है


तीनों ने अपने हुनर से जनता की नस पकड़ ली है और उसकी

कमज़ोरी को भांप लिया हैरामदेव ने देख लिया कि जनता

डाक्टरों से परेशान हो चुकी हैं और किसी भारतीय पुरातन विधि

से उपचार की सुविधा चाहती है और हर आदमी स्वस्थ्य चाहता है

तथा स्वास्थ्य के लिए कुछ भी कर सकता हैराखी समझ गई कि

जनता केवल मज़े लेना चाहती है और गर्म देह से अपनी आँखें सेंकना

चाहती है जबकि रजत शर्मा को ये इल्म हो गया कि टी वी के दर्शक

सनसनी चाहते हैंइसलिए पूरा चैनल ही उन्होंने सनसनीखेज़ बना

दिया है जिसकी हर न्यूज़ ब्रेकिंग न्यूज़ होती है




तीनों तमाशेबाज़ हैं और तीनों लोकप्रिय हैं


तीनों दुनिया भर में लोकप्रिय हैं और लोकप्रिय इसलिए हैं क्योंकि

तीनों को तमाशा करके लोगों को चकाचौंध करना आता हैरामदेव

पेट हिला हिला कर जनता को बावला बना देते हैं तो राखी पेट के नीचे

वाले वर्जित क्षेत्र को हिला हिला कर "देखता है तू क्या ?" की तर्ज़ पर

पूरे दर्शकों को हिला डालती हैऊपर के भाग की तो बात ही क्या

करनी, वो तो आम रास्ता हैकोई भी अपनी साइकल खड़ी करके

एक नम्बर कर सकता हैऔर जनाब रजतजी ! इनके पास जब

कोई न्यूज़ नहीं होती तो ये प्रलय, नरक का द्वार, स्वर्ग की सीढ़ी,

इन्द्र का आसन और पता नहीं क्या क्या दिखा कर लोगों को बांधे

रखते हैं . मतलब किसी भी बात को ये अपने करामाती दिमाग से

ऐसा बना डालते हैं कि दर्शक देखे ही देखे.........



तीनों का फोकटी रोज़गार : बिन पूँजी व्यापार


तीनों का ही कामकाज ऐसा है जिसमे लागत मूल्य एक पैसा भी नहीं

शुद्ध फोकटिया रोज़गार है तो पेट हिलाने और अनुलोम विलोम

करने में कोई खर्च आता है , ही देह प्रदर्शन के लिए कोई फैक्ट्री

खोलनी पड़ती है और ही जनता से उल्टे सीधे सवाल पूछने के लिए

कोई खाद खरीदनी पड़ती हैये कहावत शायद इन्हीं के लिए बनी है

--हींग लगे फिटकरी और रंग आवे चोखा.............हा हा हा



अब इस सब में जो मूल तत्त्व है बात का वो ये है कि तीनों के पास ही

अपना कुछ नहीं हैजो कुछ है वह आदिकाल से है, पारम्परिक है और

नि:शुल्क तो है ही..........और जो काम ये कर रहे हैं वो औरों ने भी

किया है और कर रहे हैं , इनसे भी अच्छा कर रहे हैं लेकिन प्रसिद्धि

इन्हें प्राप्त हुईया यूँ कहलें कि प्रसिद्धि इन्होंने लपक ली


उदाहरण के लिए योग, प्राणायाम कोई रामदेव ने ईज़ाद नहीं किए हैंये

तो आदिकाल से विद्यमान है और तभी से कोई कोई ऋषि या तपस्वी

लोग हमें सिखाते हुए यहाँ तक ले कर आए हैंमेरे शहर श्रीगंगानगर

में मैंने 35 साल पहले दिव्य योग मन्दिर देखा था जहाँ लोग योग करने

जाते थेऋषि दयानंद से लेकर स्वामी श्रद्धानंद तक कितने ही लोगों ने

इस मशाल को रौशन बनाए रखालेकिन उनके पास तो आस्था

चैनल था ही इण्डिया टीवी इसलिए उनसे ज़्यादा रामदेव ख्यातनाम

हो गए क्योंकि इन्होंने इसे व्यावसायिक रूप दे दिया


इसी प्रकार नाच गाना कोई राखी ने आरम्भ नहीं कियाये तो चलता ही

रहा है लेकिन तब वस्त्र केवल बिस्तर पर उतारे जाते थे कोई तीसरा

देखता नहीं था इसलिए उस ज़माने की नर्तकियां इतनी HOT आइटम

नहीं बनीयही हाल पत्रकारिता का हैपीत पत्रकारिता पहले भी होती

थीलेकिन एक शहर का चर्चा दूजे शहर में नहीं पहुँचता थाआज

चूँकि 24 घंटे के चैनल हैं और दिखाने के लिए 24 मिनट का भी माल

नहीं है .इसलिए कभी you tube से तो कभी लोगों के भेजे हुए वीडियो

दिखा कर विज्ञापन बटोर रहे हैं और रोकड़ा पा रहे हैं


दुर्भाग्य देखिये ........आज कथाकार से ज़्यादा मान और सम्मान कथा

वाचक पा रहा है


अब दिमाग गर्म होने लगा हैअब विषय दुःख देने लगा हैइससे पहले

कि मेरी भाषा असंयमित हो, मैं इस आलेख को एक बार समाप्त करता हूँ

और इन तीनों किरदारों को प्रणाम करता हूँ कि प्रियजनों ! आप बहुत

महान हैं, हमही -\*^/,।@ हैं जो आप जैसे बन नहीं पाये


-अलबेला खत्री












































2 comments:

Babli November 10, 2009 at 9:07 AM  

खत्री जी मानना पड़ेगा आपको! क्या खूब लिखा है आपने तीनों के बारे में ! एकदम ज़ोरदार और धमाकेदार !

SHIVLOK November 10, 2009 at 6:53 PM  

He bhagwan kash ye ramdev baba padh le to baba ko sab samajh aa jave, lekin nahiin, kyonki kunwe men girne ke bad bhii pahle nahane kii adat hai.

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive