Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

हर आदमी कसाई है ..........

काँटों की डगर पर,

चले जा तू बेख़बर,

रात-दिन चल, चलने में ही भलाई है


इक तेरी पलकों में

नहीं यार रिमझिम,

देख मेरी आँखों में भी बरसात आई है


तेरा ही तो साथी होगा,

तेरा ही तो भाई होगा

जिसने कि तुझ पर गोलियां चलाई है


बचना है जीना है तो

भाग इस नगरी से

शहर मेरे का हर आदमी कसाई है

1 comments:

Dev July 12, 2009 at 12:35 AM  

Aap ki rachana bahut achchhi lagi...Keep it up....

Regards..
DevPalmistry : Lines Tell the story of ur life

Post a Comment

My Blog List

myfreecopyright.com registered & protected
CG Blog
www.hamarivani.com
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive