Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

किसको भला बताऊं मैं किसको बुरा कहूं.?

फूलों में जैसे गन्ध है, मुरली में तान है

कण-कण में ठीक ऐसे ही तू विद्यमान है

किसको भला बताऊं मैं किसको बुरा कहूं

हम सब के शरीरों में जब तेरी ही जान है

5 comments:

Nirmla Kapila August 20, 2009 at 8:29 AM  

बहुत सुन्दर किसी को भी बुरा मत कहिये सब अच्छे हैं शुभकामनायें

shama August 20, 2009 at 10:48 AM  

Waqayi !
Sanjeeda khayalat..aur kitne sahi !

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

http://shama-kahanee.blogspot.com

रज़िया "राज़" August 20, 2009 at 12:23 PM  

अदभुत अलबेला जी।


जब भी जिधर भी देखुं वहीं तेरी शान है।
तेरा वज़ुद है तो धरा-आसमान है।
तुज़को समज़ने हम चले क़ुदरत के साथ भी।
हाथों में हमने ले लिया गीता-क़ुरान है।

चंदन कुमार झा August 20, 2009 at 4:02 PM  

गजब की रचना. बहुत अच्छा लगा. आभार.

राजीव तनेजा August 20, 2009 at 10:03 PM  

सत्य वचन

Post a Comment

My Blog List

Google+ Followers

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive