Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

समीरलालजी के पास है 25 साल पुराना अचार

कविवर राकेश खंडेलवालजी पिछले दिनों कनाडा में थे । वहां अपने उड़नतश्तरी वाले

समीरलालजी ने उनकी खूब आवभगत की और घर में भोजन वगैरह भी बढ़िया से कराया ।


भोजन करते-करते समीरजी ने अपनी श्रीमतीजी से कहा - प्रिये......घर में गुरु जी आए हैं ..ज़रा इन्हें

वो तो दिखाओ एतिहासिक अचार ।


भाभीजी तुरन्त एक कांच की बरनी लेकर आई - देखो भाई साहेब ....25 साल पुराना निम्बू का

अचार ।

राकेशजी बोले - ये क्या...सिर्फ़ दिखाओगे ही दिखाओगे ...चखाओगे नहीं ?


भाभीजी बोली - क्या बात करते हैं आप ! अगर चखाते ही रहते तो क्या ये इतना पुराना होता.....हा

हा हा हा हा हा हा हा हा

12 comments:

शब्दकार-डॉo कुमारेन्द्र सिंह सेंगर June 25, 2009 at 10:48 PM  

HA!!!HA!!!HA!!!
sahi hai

अजय कुमार झा June 25, 2009 at 10:56 PM  

लीजिये इसमें क्या हैरानी की बात है अलबेला भाई...वे उड़नतश्तरी हैं..यानि एलियन ..तो उनके यहाँ तो अचार..चटनी..मुरब्बा..पता नहीं कितने कितने साल पुराना होगा...

Udan Tashtari June 25, 2009 at 11:26 PM  

हा हा!! आप भी आओ..आपको भी दिखायेंगे. सादर निमंत्रण!!

दिनेशराय द्विवेदी June 26, 2009 at 12:07 AM  

मैं पचास साल पुराना देख चुका हूँ।

राकेश खंडेलवाल June 26, 2009 at 12:32 AM  

जी हाँ और साथ में एक अदद तस्वीर भी टिका दी ताकि सनद रहे और वक्ते जरूरत काम आये
जिनका खुद अचार बनता हो, वे अचार को क्या खायेंगे
और शब्द जो होते हैं वे किसी गीत को क्या गायेंगे
आप बनायें चटनी पापड़ तो हम वहां आयें बन मेहमाँ
निश्चित है यदि आप गायें तो छह दर्ज़न रचना लायेंगे

संगीता पुरी June 26, 2009 at 12:34 AM  

वाह !!

राज भाटिय़ा June 26, 2009 at 12:42 AM  

यह मजाक नही, विदेशो मै रहने वालो के पास सच मै यह चीजे आप को मिल जायेगी, अचार, गुड,भारत की बीडियां,दिपावली के मिट्टी के दिये.... ओर भी बहुत सी यादे.. यानि जो चीजे भारत मै कम महत्व की है वो ही यहां जान से ज्यादा प्यारी लगती है,
आप के चुटकले ने आज फ़िर घर की याद दिला दी,बहुत भावूक कर दिया.
धन्यवाद

ताऊ रामपुरिया June 26, 2009 at 9:34 AM  

भाई वैसे कहते हैं कि नींबू का आचार जितना पुराना होता है उसकी गुणवता कई रोगो के लिये काम मे आती है. तो वो दवाई जैसे ही काम मे लेने की चीज है.:)

रामराम.

रंजू भाटिया June 26, 2009 at 10:17 AM  

:) चटपटा

Atmaram Sharma June 26, 2009 at 1:06 PM  

अच्छा था.

परमजीत सिहँ बाली June 26, 2009 at 4:22 PM  

बहुत बढिया!!

शेफाली पाण्डे June 26, 2009 at 7:07 PM  

mere ghar me bhi ek aachaar hai kareeb 45 saal purana ....sach hai bilkul

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive