Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

लोग हँसे तो मैं क्या करूं ?

बड़ा बन-ठन के गया था आज मैं प्रोग्राम में, क्योंकि यहाँ आज जूनियर चैम्बर्स ऑफ सूरत की रीजनल कान्फ्रेन्स थी जिस में मुझे बतौर मुख्य अतिथि आमन्त्रित किया गया था ..............कहना मत किसी से , मुख्य अतिथि इसलिए बनाया गया था ताकि पैमेन्ट करना पड़े .......मैं भी पक्का सयाना ....सोच के ही गया था कि मुफ़्त में बुलाया है तो आज सिर्फ़ बड़ी बड़ी बातें करूंगा ...लेकिन किसी को हँसाऊँगा नहींलेकिन हायरे! मेरी होशियारी ...धरी की धरी रह गई क्योंकि जैसे ही मैं स्टेज पर पहुँचा ...लोग ठहाके लगाने लगे........

वहां सजावट के तौर पर ऐश्वर्या रॉय , कैटरीना कैफ़ , दीपिका पादुकोण ,करीना कपूर काजोल इत्यादि के पुतले खड़े किए गए थे जिन पर सूरती साडियां लपेटी हुई थीं .. मैंने बड़े बेमन से कहा.....कि मंच बहुत सुन्दर है और ये सुन्दरियां भी बड़ी सुन्दर हैं ..... तो किसी कन्या ने मुझे टोका- अंकल नकली है ! मैंने कहा - अंकल नकली नहीं है ये तुम्हारी आंटियां नकली हैं ...और ये भी नकली नहीं होती ........अगर मन्दी ने मार कर नहीं रखा होता तो ये भी असली होतीं .....मेरा इतना कहना था कि तालियों की गड़गडाहट के साथ हँसी भी फूट पड़ी, अब बिना बात ही लोग हँसे तो मैं क्या करूं यार ......हा हा हा हा हा हा

3 comments:

अजय कुमार झा June 12, 2009 at 5:00 PM  

prabhu ek baar jo aapkee chhatree ke neecheaa gaya us par hansee kee fuhaare na padein aisa kaise ho saktaa hai...haan ek baat poochhne thee kya mallika sheraawat kaa putlaa bhee tha wo to nakli bhee gajab dhata sir...

ताऊ रामपुरिया June 12, 2009 at 7:36 PM  

सही बात मे भी हास्य पैदा होना कहने वाले की मार्केट वैल्यु पर निर्भर करता है. इसका सीधा सा मतलब है लोग आपको प्यार करते हैं और सुनना चाहते हैं. बहुत शुभकामनाएं. आपकी लोकप्रियता और बढे. यही शुभेक्षा है.

रामराम.

Dr.T.S. Daral June 12, 2009 at 10:10 PM  

कमाल की हाजिरजवाबी. एक अच्छे कलाकार की यही पहचान है. बात बात में हास्य निकाल लेना आपकी खूबी है. बधाई

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive