Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

आज़ादी दा गीत सुणावां .........................

सुणलै मेरे मीत सुणावां

आज़ादी दा गीत सुणावां


तैन्कां, तोपां अग्गे खड़के , जलियाँ वाले बाग़ सड़के

शामीं-रात, सवेरे-तड़के, सेहरे वंग कफ़न नूं फड़के

माँ-प्यो-तींवीं-न्याणे छडके ,नाल-हौसले-हिम्मत लड़के

फाँसी दे फन्दे ते चढ़के, कुर्बानी दित्ती वाढ -चढ़के

भिड़े असां तोपां दे मुखालफ़ , करद अते किरपानां फड़के

लोहू बहाया पाणी वंगो

तां सी पाई जीत सुणावां

सुणलै मेरे मीत सुणावां, आज़ादी दा गीत सुणावां ..................


शुरू फेर बर्बादी हो गई

एहोजी आज़ादी हो गई

ला लौ हुअन्दाज़ा लोको

सवा अरब आबादी हो गई

गल्ल करांगा सीधी सादी, की कुझ करण नूं हन आज़ादी

ढिड भरे ना भरे, हाकम दी जेब भरण नूं हन आज़ादी

जी सद बम- बन्दूक चलाओ, क़त्ल करण नूं हन आज़ादी

नीता-गीता-सीता, सब दा चीरहरण नूं हन आज़ादी

इस हालत विच जी नई सकदे? मरो, मरण नूं हन आज़ादी

जनम-मरण , आमद-खर्चे दा टैक्स भरण नूं हन आज़ादी

तींवीं दाज जे ना ल्यावे तां ...गळ घोंट नूं हन आज़ादी

रिश्वत-दारू-जुआ-झगड़े

डिस्को दा संगीत सुणावां

सुणलै मेरे मीत सुणावां , आज़ादी दा गीत सुणावां .................

_________________________________________
_________________________________________

5 comments:

Nirmla Kapila June 13, 2009 at 11:44 AM  

अल्बेला जी अज तां इक होर रंग देख लिया तुहाडा ढाडा सोहणा गीतज दा सव ते पछोकड दी साँझ नाल इस दी नुहार निखए गयी है गुरनाम गिल दियां दो लाईना हन
बदल सकदे नही साथों जो बणाये असां रसते
इना दे साजिशी पैएअँ नू तुरनो रोकिया जावे
सतश्रीअकाल्

ताऊ रामपुरिया June 13, 2009 at 1:41 PM  

घणा सोवणा है जी.

रामराम.

Vijay Kumar Sappatti June 13, 2009 at 1:44 PM  

just outstanding sir ji ,,,salaam aapko

Priya June 13, 2009 at 2:19 PM  

hindi, gujrati, maarwadi bhasha ka sateek proyog ne is khoobsoorat bana diya

RAJNISH PARIHAR June 13, 2009 at 4:09 PM  

कमाल दा लगया ऐ पञ्जाबी चौका....

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive