Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

कुछ बातें अधूरी रह गईं ................

दादू !
दादू !!
आदित्य दादू !!!
ऐसे नहीं चलेगा .....
उस दिन मुंबई एयर पोर्ट आपने कहा था मुझे,
वादा किया था मेरे साथ......
मेरे से भी अच्छी चाय पिलाओगे
अरुण जैमिनी ने भी भरोसा दिलाया था
कि दिल्ली में महफ़िल जमाओगे
लेकिन तुम तो चल दिए ........
ऐसे चल दिए जैसे परलोक में कोई बाट जोह रहा है आपकी
जैसे कवि- सम्मलेन में वहां प्रस्तुति होने वाली हो आपकी
दादू .. दादू ...
अभी और बहुत से गीत याद हैं मुझे ....
तुम मुंह में मसाले की पुड़िया भर कर सुनना
बहुत मज़ा आएगा ....दादू_____ दादू _____


और तुम नीरज भाई!
ऐसा करोगे हमारे साथ ?
खत्री हो के खत्री के साथ चीटिंग !
याद करो नागपुर वाली मीटिंग !
जब तुमने कहा था कि इस बार मुश्किल है
अगली बार ज़रूर आऊंगा
कविसम्मेलन जमाऊंगा
तुम तो मेरी साधना के साक्षी थे यार !
गुजरात वाला शो देखे बिना चले गए...
तुमसे दोस्ती करके हम तो छले गए

वाह रे लाड़सिंह !
तुम भी?
'समोसों अब नी भावै रै' गाते गाते खिसक लिए
ये कौनसा गुर्जरपना है भाईजी?
एस्सार वाले इस बार भी तुम्हारी डिमाण्ड करेंगे ....
क्या कहूँगा उनको ?
बोलो ...बोलो क्या कहूंगा उनको ?
तुम्हारे गीतों की झलक आज भी
मेरी यू ट्यूब चैनल पर ख़ूब देखी जाती है
मैं तुम्हें पूरा गुजरात घुमाना चाहता था
लेकिन
अब मैं ख़ुद गुमसुम हो गया हूँ
पीड़ा के पारावार में खो गया हूँ


जानी बैरागी तो अपना पट्ठा है,छोटा भाई है
उसकी पत्नी की पूजा पाठ वाली तपस्या आज काम आई है
लेकिन की चिन्ता अब भी सता रही है
खबरें जो भोपाल के हस्पताल से रही हैं
वे तसल्ली नहीं देतीं
इसलिए ..पूरे मन से करूंगा प्रार्थना
आज करूंगा महाकाल से मैं याचना
हे आशुतोष !
दया करो _______________
दया करो ___________________
दया करो ___________________________

आदित्यजी, नीरजजी और लाड़सिंहजी के साथ
मेरी मुलाकातें अधूरी रह गईं
कुछ बातें अधूरी रह गईं
कुछ बातें अधूरी रह गईं ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, शान्ति शान्ति शान्ति

2 comments:

Vijay Kumar Sappatti June 9, 2009 at 4:08 PM  

albela ji

mera naman hai un kaviyon ko ..sach zindagi bhi kitni chooti hoti hai....

शिवम् मिश्रा June 9, 2009 at 9:00 PM  

हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

और

ओम व्यास तथा बैरागी जी शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना.

वाकई, आज का दिन "मंच" पर वज्रपात का दिन है ||

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive