Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

राज भाटिया जी की निराली अदा..............

राज भाटियाजी की नई नई शादी हुई थी

शादी के अगले दिन पति -पत्नी दोनों मन्दिर गए

लेकिन भाईजी ने भाभीजी को बाहर ही खड़ा कर दिया,

ख़ुद अकेले ही दर्शन कर के गए


ताऊ रामपुरिया ये देख रहे थेउन्होंने भाटिया जी से कहा-

- कमाल करते हो यार ! कल तुम्हारी शादी हुई हैआज पहली बार

जोड़े से मन्दिर आए हो और अपनी श्रीमतीजी को

बाहर ही खड़ा कर दिया ?


भाटिया जी बोले - ताऊ इसमे मेरी कोई भूल नहीं है .....

वो देखो मन्दिर के आगे साफ़ साफ़ लिखा है

==नशीली चीज़ें अन्दर लेजाना मना है ........हा हा हा हा हा हा

11 comments:

राज भाटिय़ा June 28, 2009 at 2:04 AM  

अलबेला जी बात तो आप की ठीक है, लेकिन मै कभी मंदिर नही जाता, बस उस दिन गया ओर ताऊ ने झट से चुगळी भी कर दी.

कभी पुरानी पुरानी शादी भी होती है क्या ?

Udan Tashtari June 28, 2009 at 3:42 AM  

हा हा!! अभी राज जी ने पढ़ा नहीं है. :)

अजित वडनेरकर June 28, 2009 at 3:57 AM  

राज भाटिया जी बुरा मान गए हैं...मुझे ताऊ ने बताया है...

M VERMA June 28, 2009 at 5:09 AM  

आप वहाँ क्या कर रहे थे ? ? ---

Vivek Rastogi June 28, 2009 at 6:17 AM  

पत्नी और नशीली केवल नयी है तब तक ही..
अच्छा व्यंग्य..।

Ratan Singh Shekhawat June 28, 2009 at 8:08 AM  

अरे खत्री जी आजकल तो सबकी पोल खोलने में लगे हो |

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa June 28, 2009 at 11:09 AM  

पता नहीं बेचारे भगवान को किस-किस चीज से महफूज रखा जाता है ?

cartoonist anurag June 28, 2009 at 11:34 AM  

bahut achhe.....
maza aa gaya........
lekin ek batt tay hai ab taou ji aour raj ji than jarur jayegee.....

ताऊ रामपुरिया June 28, 2009 at 1:32 PM  

भाई आप हम दोनो हरयाणवियों के पीछे कैमरा लेकर ही लगे रहते हो? आपको मैने कहा था कि और किसी को यह बात मत बताना.:)

ये अच्छी बात नही है (स्टाईल = अटल जी )

रामराम.

Murari Pareek June 28, 2009 at 6:43 PM  

khub rahi ye bhi!!

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी June 28, 2009 at 11:35 PM  

भगवान जी भीतर अकेले थे क्या?

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive