Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

बांहों में भर ले बलम हरजाई...............

जून की गर्मी , बरखा न आई

तू ही बरस जा बलम हरजाई



ननद निगौड़ी बाज़ न आए

दरवज्जे पर कान लगाए

सरका दे खटिया,

बिछाले चटाई ...............बाहों में भर ले ...........



तू मेरा राजा, मैं तेरी रानी

अब काहे की आना-कानी

काहे का डर

मैं हूँ तेरी लुगाई .............बाहों में भर ले ..........



मेरे दिल का दरद न जाने

मैं जो कहूँ तो बात न माने

बाबुल ने ढूँढा है

कैसा जमाई ..................बाहों में भर ले ............



तेरे ही नाम की बिन्दिया-काजल


झुमका  ,कंगना,बिछुआ,पायल

तेरे ही नाम की

मेंहदी रचाई .................बाहों में भर ले ..............



अपना हो के यूँ न सज़ा दे

प्यासी हूँ मैं मेरी प्यास बुझा दे

मर जाऊंगी वरना

राम दुहाई .....................बाहों में भर ले.................


8 comments:

cartoonist anurag June 29, 2009 at 2:25 PM  

senser ki kainchi na chal jaye albela ji..
bahut sunder...

Nirmla Kapila June 29, 2009 at 3:09 PM  

वाह वाह बहुत सुन्दर

awaz do humko June 29, 2009 at 3:21 PM  

waah bahut achcha maza aa gaya

ओम आर्य June 29, 2009 at 3:54 PM  

bahut hi sunadar geet hai ..............aapaki rachanaao ka jabaw nahi

राज भाटिय़ा June 29, 2009 at 5:01 PM  

जून की गर्मी , बरखा न आई
चल दुर हट जा बाल्म करजाई
बच्चे बडे हो गये है.
फ़िर भी शर्म ना आये हरजाई

बाबुल ने ढूँढा है

कैसा जमाई ..................बेशर्म जमाई ........
चल दुर हट जा बालम करजाई

अलबेला साहब आप ने कविता तो बहुत सुंदर लिखी लेकिन हमे तो कुछ इस रुप मै सुनने को मिलती है यह कविता
धन्यवाद

Pyaasa Sajal June 29, 2009 at 5:42 PM  

garmee pe jab log is kadar kavitaaye likh rahe hai to lagta hai ab garmee ka bhi lutf uthaana mumkin ban chukaa hai...ek kavi har baat ka mazaa le saktaa hai :)

Murari Pareek June 29, 2009 at 6:56 PM  

भई जून की गर्मी मैं बाहें फैला कर गले लगाना रास आया !! लोहे को लोहा काटता है !!

Udan Tashtari June 29, 2009 at 11:01 PM  

ये रंग और गरमी के संग..बहुत खूब!!

Post a Comment

My Blog List

Google+ Followers

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive