Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

भोलेनाथ चले आओ कि पुकारती है दुनिया....

रातों में महान रात


रात शिवरात सारी


रात गुणगान में गुज़ारती है दुनिया



अंग अंग में तरंग


उठती है चंग की सी


कंठ में भक्तिभंग उतारती है दुनिया



खड़ा है कराल कलि-


काल विकराल देखो


हाल कैसे जीवन गुज़ारती है दुनिया



हो चले अनाथ हम


नाथन के नाथ भोले


नाथ चले आओ कि पुकारती है दुनिया

6 comments:

विनोद कुमार पांडेय June 25, 2009 at 10:37 AM  

भोले नाथ की आज बहुत ज़रूरत है,
आज सीधा सदा इंसान ज़ुल्म से दब रहा है,
परेशान है आज,
देश के ठेकेदारों को तनिक भी नही आती लाज,
आज फिर से भोले नाथ अवतार लेंगे,
और धरा को अपराध से मुक्त कर देंगे.

आप की पुकार रंग लाएगी.धन्यवाद

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" June 25, 2009 at 10:43 AM  

वाह्! क्या आनन्ददायक छन्दावली प्रस्तुत की है.....बहुत ही बढिया।
सब बाबा भोलेनाथ की कृ्पा है.....

Ratan Singh Shekhawat June 25, 2009 at 11:15 AM  

बहुत ही बढिया।

ताऊ रामपुरिया June 25, 2009 at 11:16 AM  

जय हो भोलेनाथ.

रामराम.

Atmaram Sharma June 25, 2009 at 12:12 PM  

भोले भंडारी की कृपा बनी रहे. जय हो..

cartoonist anurag June 25, 2009 at 12:45 PM  

bahut hi badia rachna hai..........

Post a Comment

My Blog List

Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive