Albelakhatri.com

Hindi Hasya kavi Albela Khatri's blog

ताज़ा टिप्पणियां

Albela Khatri

देते हैं यों ताने लोग

बुरा-भला कह रहे शमा को कुछ पागल परवाने लोग

बन्द किवाड़ों को कर बैठे, घर घुस कर मर्दाने लोग



पानी बिकने लगा यहाँ पर,कसर हवा की बाकी है

भटक-भटक कर ढूंढ रहे हैं गेहूं के दो दाने लोग



और पिलाओ दूध साँप को , डसने पर क्यों रोते हो?

कहना माना नहीं हमारा , देते हैं यों ताने लोग



कैसा है ये चलन वक़्त का ,समझ नहीं कुछ आता है

अन्धों में राजा बन बैठे, आज यहाँ कुछ काने लोग

2 comments:

Nirmla Kapila June 3, 2009 at 10:13 AM  

पानी बिकने लगा यहाँ पर कसर् हवा की बाकी ह
भटक भटक कर ढूँढ रहेहैं गेहूँ के दो दाने लोग
बहुत बडिया और सटीक अभिव्यक्ति है बधाई

संजय बेंगाणी June 3, 2009 at 4:21 PM  

बात हवा की हो तो ऑक्सिजन पार्लर खूल गए है.

बाकी रचना जोरदार है.

Post a Comment

My Blog List

Google+ Followers

About Me

My photo

tepa & wageshwari award winner the great indian laughter champion -2 fame hindi hasyakavi, lyric writer,music composer, producer, director, actor, t v  artist  & blogger from surat gujarat . more than 6200 live performance world wide in last 27 years
this time i creat an unique video album SHREE HINGULAJ CHALISA for TIKAM MUSIC BANK
WebRep
Overall rating
 
Blog Widget by LinkWithin

Emil Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Followers

विजेट आपके ब्लॉग पर

Blog Archive